Saturday, December 19, 2009


Local phenomenon
Just a triggering of
Physical mechanism,

Nothing more than a
A release
A relief

And surprisingly you call

This situation


Just a pseudo feel

A false sense of


Real Orgasm



The whole body


Toe to head
There flows

A tremendous energy

From body to soul

Soul to body

In proximity with



Happens then

The Ecstacy of

Every bit of being
Physical as well as mental

A ceremony

Celebrated with
Great dance of
Purush and prakriti
Shiva and Shakti.........

We worship
We worship yoni
Symbols of
This wholesome union
Soul and

The being

Meet and


An individualistic

Though together

Other becomes

Just a witness……

Orgasm becomes



Becomes orgasm

The partners
Live it




A travel to

The ultimate

Holding hands


(साथ देने के लिए शुक्रिया.....)

Monday, December 14, 2009

Scribblings : Orgasm ( I )

That moment
I whispered
You had orgasm ?
You said,
Ya, mentally
(Not practically)...

How correct you are
For a woman
It has to be
Her sexuality is not local
Her sexuality is total
Her whole body has sexual quality
Her soul is a part of
Sexual dance
The divine dance of ecstasy
Not a gymnastic of lust
So unless
She can go into a divine dance
While making love
She will not be able to
Have orgasm...

Deep down
Man is afraid of SEX
He is far weaker than the woman
The woman is capable of
Having multiple orgasm
Man is not
Man's sexuality is local
This is genital
Man can have only one orgasm
With one orgasm
He is finished
And the woman is still
On the way
May not even have started
So you are true
My dear......
You shared
Your feel
Not knowing that
This is the
Very base of tantra
That orgasm is mental
The orgasm is total
The orgasm is divine...........

But sorry, you have a
Wrong conditioning,
Let me tell you
Drop the word "practical'
As this is a
Small friction of 'mental'
Mental is another name of
The truth of our being......

Talking of 'practical' is a
Man game
An illusion fabricated by man
A conspiracy of repression
Hatched by man.....

Just dance !
Dance with whole divinity
Dance with your all faculties
And feel
And feel
This is just for YOU
Your nectar is
Just for you.......

Saturday, December 12, 2009

Scribblings : Spontaneity

We were !
So much dust
Have since
Gathered :
So many
And what not
Forgotten is the
Language of
Just being

Cann't be created
Cann't be cultivated
If it is cultivated
It cannot sustain
Cultivated one is
Just an acting
Painted on outside
Just scratch
The true color
Would come out....

Comes from center
This is uncultivated
No way to create
No need to cultivate
It cannot be observed
It can only be felt
Spontaneity or
No spontaneity
The heart will respond
Any trigger of reality
Pseudo Spontaneity to
All masks are taken away.......

We are to rediscover
True spontaneity
Rather than
Attempt to create it
Struggle to cultivate it;
Let us begin
The journey of
Rediscovery of the
True Self
Rediscovery of
Where everything drops
And we emerge as our

(Scribbling Series is sharing what I assimilated....)

Sunday, December 6, 2009

Scribbling : Silence

Scribbling : Silence

When we don't speak
We may be in words
Even when we speak
We may be in silence..

When happens
The Silence
Speaking don't disturb it
When the speech disturb
The silence is
Silence is never afraid of

Silence is not the
Absence of words
It's a lively presence of
Awareness and

The silence can
Speak to you
Sing to you
Caress you
Embrace you..
It's tremendous energy
It's a divine happening
It's not vacuum
It's fulfillment
Of the inner
And the outer as well
By its
Lively and
Joyous presence.....

Let's learn to
The Sound of Silence
Not throug ears,
By the entire body
By the soul
By the wholesome being
With gratitude to
The Existence..........

Sunday, November 29, 2009

तेरे मयखाने में.: मेरे मयखाने में .......

अंजुरी से पीता हूँ मय
रक्खा क्या है पैमाने में
दिल से पिला ऐ साकी
आया तेरे मयखाने में.

गम नहीं सुकूं ले के आया हूँ
खिज़ा नहीं बहार ले के आया हूँ
दिल से झूम ले साकी
है जश्न तेरे मयखाने में .

नशा नहीं कुछ और है यह
गुनाह नहीं कुछ और है यह
आ गले लग जा साकी
वस्ल अपना तेरे मयखाने में.

मंदिर है मस्जिद है यह
पूजा ओ इबादात है यह
सजदे में झुक जा साकी
है खुदा भी तेरे मयखाने में.

रूह से खींचती है मय
जिस्म से रिसती है मय
रौं रौं में घुली है मय
मय मय है तेरे मयखाने में.

धुन बन गयी है नयी
नगमा भी है नया यह
साज़ सब बजने लगे
महफ़िल तेरे मयखाने में.

मर के होना है दफ़न
ख़ाक में मिल जाना है
लहद बन जाये मेरी
साकी तेरे मयखाने में।

.......और साकी ने प्यार से देखा, उसकी नज़रों ने कहा :

मयकश तेरा यूँ आना,अब मेरे मयखाने में
बन बैठा इक अफसाना ,अब मेरे मयखाने में

जिस्मों की सुराही से,छलके है मय रूह की
नज़रें बनी पैमाना, अब मेरे मयखाने में

मय रूहों की खिंचती है,रूहों में ही ढलती है
रों रों हुआ रिन्दाना, अब मेरे मयखाने में

वस्ल तेरा,तेरी साक़ी का ,कुछ ऐसा हुआ जानम
ले थम गया ज़माना ,अब मेरे मयखाने में

तार बज उठे हैं दिल के ,सांसें हुई झंकारित
लब गा रहे तराना , सुन मेरे मयखाने में

सजदे में झुकी साक़ी,ये उसकी इबादत है
तुझको खुदा है माना , अब मेरे मयखाने में

मदहोश हुई है साक़ी,कैसा मिला ये मयकश
दिल हो गए दीवाने ,अब मेरे मयखाने में

मयकश हुआ है साक़ी,साक़ी भी अब है मयकश
बदला है यूँ फ़साना, अब मेरे मयखाने में ........

और इस तरह यह जुगलबंदी एक बार के लिए पूरी हुई.......

Scribbling : Life And Death

Life as we live
Is anonymous
Breathing with others

Death is unique
Always unique
Death is just alone
One dies alone
No society
No mass
No crowd
They are there
When we breathe ;
When we die
We die alone
Absolutely alone
Utterly alone...

Death has quality
Unique to it
Death is the
Only truth
When revealed
We are free from
All the clutches.....

Sick and tired of
We call it
Fed up of the
Called LIFE
Let us try death
In our own way
No suicide
No killing of
The body
Only happening of
A change in

Let us
Not live
As others want
Let us live
In our own way
This is death of
And this death is
The true life
To rejoice.......

This to happen
At inner level
Let outer
As it is
Like a wrapping
Like a packaging
To protect loving
From the vagaries
Of living.......

Sunday, November 15, 2009

Scribbling : EGO and SELF.

एक अभिन्न मित्र की इस रचना को यहाँ शेयर करना चाहता हूँ क्योंकि अगली रचना जो इस कलम की है वह इसकी पूरक है.

बाल बराबर अंतर है
अहम् व आत्मसम्मान में
इक फैलाता विष जड़ गहरी
दूजा फूल खिलाये जहान में

स्वयं जो सोचें स्वाभिमान है
वही दूसरे का अभिमान
छोटे से एक मतान्तर को
मान लिया जाता अपमान

जैसा अंतस होता जिसका
प्रतिबिम्ब दिखता वही अन्य में
खोल के मन की आँखें देखो
घिर बैठे क्यूँ तिमिर अरण्य में

ऋण ऊर्जा होती अहम् की
करती निज का ही नुकसान
दृढ कर ऊर्जा धन की अपनी
ढह जाएगा मिथ्या अभिमान

( ऋण-नकारात्मक और धन-सकारात्मक के लिए प्रयोग किया है )

People have EGO
A poor substitute of
We create EGO
It is just 'make believe'
We create this monster
As we are not aware of our
We cannot live without center
Therefore, we invent
A false center
That is EGO.

The society helps the
False center
As the false person can
Easily be dominated
He always seeks
To have a feeling of
"I am"
When fulfilling someone's
Orders in the name of
Love, faith or compassion
He feels,
"I have some worth."
He has no meaning of
His own
Somebody else has to give this.
His worth
His meaning
His life
All are borrowed.

Others give us a toy
A toy called Ego
They support Ego
They praise ego
They nourish ego
If you follow their dictates
You are respected
If you donot follow
You will be disrespected
This way they punish your EGO
Keeping it satrved
You cannot live
Without a center
So this false center
To maintain this
You are ready to fulfill
All their demands

Drop this
False entity
called 'THE EGO'
Dropping this is
Half the work
And other half is
To be aware of

The EGO is created thing
This is rootless
This has to die
The true SELF existed
Before you were born
And shall exist
After you would go
Just realize the
Difference of False and True
Just assimilate the
Difference of EGO and SELF.

Thursday, November 12, 2009


When you
Take my hand
In your hand
With love and care
My hand becomes
My whole consciousness
Becomes focused
On my hand.
I become aware of
My hand....

My hand
Throbs with
New life
It pulsates with
Which was not there
Just a moment before.

Just a moment before
I was completely
Oblivious of
My hand
Now there is
So much
My whole body has
Only and only
My hand is there.......

Wednesday, November 11, 2009

बात जड़ की.........


बिना सीखने
से ही
आ जाता है
जो होते हैं
वर्णमाला की.......

कहतें हैं
समझते हैं
सृष्टि को
बिना मूल की

Monday, November 9, 2009

मनोकामना : मेरी भावना


जीवन के चमन में ऐ यारों
खुशियों के फूल खिलाएं हम
हरियाली चहुँ और रहे
कोई गुलशन एक लगायें हम.

क्या काम जलन घृणा का है
खेल यह सब तृष्णा का है
इस तिमिर को रोशन कर दे जो
उस प्रेम के दीप जलाएं हम.

जीवन के चमन में ऐ यारों
खुशियों के फूल खिलाएं हम
हरियाली चहुँ और रहे
कोई गुलशन एक लगायें हम.

दर्द अन्य का समझ सकें
परहर्ष को अपना बूझ सकें
संवेदनशील बनें हम सब
ऐसा मानस अपनाएं हम.

जीवन के चमन में ऐ यारों
खुशियों के फूल खिलाएं हम
हरियाली चहुँ और रहे
कोई गुलशन एक लगायें हम.

यशगान पिपासा हो ना हमें
पद की भी लिप्सा हो ना हमें
निज कर्म करें फल ना सोचें
गीता दर्शन ले आयें हम.

जीवन के चमन में ऐ यारों
खुशियों के फूल खिलाएं हम
हरियाली चहुँ और रहे
कोई गुलशन एक लगायें हम.

मैत्री की प्रबल भावना हो
सौहार्द स्नेह प्रभावना हो
मिलजुल के रहें आनन्द करे
ऐसा जीवन जी पायें हम.

जीवन के चमन में ऐ यारों
खुशियों के फूल खिलाएं हम
हरियाली चहुँ और रहे
कोई गुलशन एक लगायें हम.

वो लेता है देता ही नहीं
कृतज्ञ कभी होता ही नहीं
अवसर उसने तो दिया हमें
बस बात यही कर पायें हम .

जीवन के चमन में ऐ यारों
खुशियों के फूल खिलाएं हम
हरियाली चहुँ और रहे
कोई गुलशन एक लगायें हम.

मिथ्या आडम्बर को छोडें
अस्तित्व किसी का ना तोडें
हृदय भाव सम्मान करें
दुश्मन को गले लगायें हम.

जीवन के चमन में ऐ यारों
खुशियों के फूल खिलाएं हम
हरियाली चहुँ और रहे
कोई गुलशन एक लगायें हम.

दंश नहीं देना हम को
लेकिन फुफकार ज़रूरी है
आक्रामकता है एक कायरता
प्रभो! क्षमा वीर बन पायें हम .

जीवन के चमन में ऐ यारों
खुशियों के फूल खिलाएं हम
हरियाली चहुँ और रहे
कोई गुलशन एक लगायें हम.

यौवन......(आशु रचना )

एक कदम
दो कदम
टेढी मेढ़ी चाल
हाल हुए
जरा खुद को

यौवन का
गवां देता जब
नौ दिन
अढाई कोस ........

Sunday, November 8, 2009

होगा साकार तुम्हारा सपना.....

पीपल की
घनी छाँव
मिल गयी
क्रोधी सूरज
क्या कर लेगा ?
घड़ी दो घड़ी
तप लेगा वह
तप कर फिर वह
शीतल होगा.........

क्यों बने
समय की
सुख दुःख
अपनी राह
सत्य कि ज्योति
जलाये रखना
समस्त कारज

जब जब
धरती प्यासी होगी
मेघ गगन का
सागर होगा
जब जब बढेगा
कुटुंब कंस का
किसना आकर
हाज़िर होगा.......

क्यों डिगता
विवेक तुम्हारा
विश्वाश स्वयम में
कायम रखना
दृढ निश्चय यदि
रहे तुम्हारा
होगा साकार
तुम्हारा सपना.........

Saturday, November 7, 2009

कुछ छोटी कवितायें .....

कर डालो निर्मूल....

ऋण अगन दुश्मन का
शेष अवशेष तनिक
बढेगा अपरम्पार
कर डालो निर्मूल सम्पूर्ण
यही उचित व्यवहार.....

(दुश्मन तभी समाप्त होता है जब दिल से दुश्मनी ख़त्म होती है)


नथ औ कुर्सी

फर्क बस इतना है
नथ औ कुर्सी में
उसको उतारा जाता है
इससे उतारा जाता है...........


कोमल जमीं-नाजुक आसमान

ना बरसा
अंतर के घन को
नयनों की राह से
पिघल ना जाये कहीं
यह कोमल जमीं
यह नाजुक आसमां.......



स्पर्श तुम्हारा पाकर
तार वीणा के जी गए
संगीत की सुरा को
हम रों रों से पी गए........


नौटंकी का साधु

नौटंकी में
बने 'गुप्ता'
साधु एक
टनटना नंदन,
फूंकी बीडी
जमाई दारू
जोर से बोले
अलख निरंजन !


दूरवालों की
हुआ करती है....
महसूस-ओ-एहसास का
सब खेल है सारा
अपनी हर इक साँस
तेरी पनाहों में
हुआ करती है......



छूने सितारे
हुआ था अग्रसर
भय था गहन
मिली ना धरा
ना ही गगन.

मुल्ला : अटक गया......
गुप्ता : ना रे लटक गया.....



मत खेल

मत खेल
जोश में
जुल्फों से मेरी
होश में रह
ऐ ! जानेमन
यह विग है
उतर ना जाये कहीं.......



ना गूंजी थी
हंसी उनकी
खामोशी थी
फिजाओं में
खोयी-खोयी सी
अदाएं थी
बोसा था
कोमल-कोमल सा...

बिसरा गए थे वो
बतीसी अपनी.....

प्रवंचक वय

घूम लिया
बस्ती सारी में
नहीं मिला क्यूँ
मेरा चेहरा...........

भौंके जा रहे हैं
गली के
देख देख यह
शक्ल अजानी
समा लिया
दर्पण ने
किंतु प्रश्न
लगा है करने ,
होने लगी
कौन है यह
चेहरा ?

होकर आकुल
चुरा लिया
प्रवंचक वय ने
क्यूँ युवक सा
मुखड़ा मेरा........

कहाँ कहाँ
खोयी हुई
सूरत अपनी को
नहीं सूझता
कुछ भी
छाया है

Friday, November 6, 2009

अंतर्मन (आशु रचना)


मेघ गरज कर बरस गए हैं
भीगा भीगा सा अंतर्मन
स्पर्श प्रिये यूँ पाकर तेरा
प्रफुल्लित मेरा यह तन.

नयी कोंपले खिल आई है
सौंधी सौंधी महक लिए
मस्ती ऐसी छाई मुझ पे
चरण बढ़ रहे बहक लिए.

सर्वत्र छवि देखूं मैं तेरी
श्वास नयन सब में तू है
वाणी में है बात तुम्हारी
चिंतन में हर पल तू है.

भंग तपस्या करने मेरी
तू बन अप्सरा थी आई
रंग में मेरे रंग गयी तू तो
अपनी हस्ती बिसरायी.

बात वही अंदाज़ अलग है
क्रिया वही उद्देश्य अलग है
गिरते हैं वो हम उठते हैं
सोये हैं वो हम सजग हैं.

दृष्टि प्रकाशित ज्ञान-पुंज से
चित्त आलोकित भाव कुंज से
अंतर है यह सब अनुभव का
आनन्दित मन मधुर गुंज से.

प्रक्रिया एक है श्वास-निश्वास की
ऊर्जा एक विकास विनाश की
भेद प्रिये बस है चेतन का
ऋतु एक है हास परिहास की.

जोड़ हो सकता दो अंकों का
घटाव भी होता उन अंकों का
विभाजन हेतु वही संख्याएं
गुणन भी होता उन्ही अंकों का.

मिलन विनष्टि हेतु हो जाता
मिलन प्रेम सेतु बन जाता
मिलन प्रभु बिम्ब हो जाता
मिलन शांति केतु बन जाता.

सत्य-असत्य अज्ञात भ्रम है
असमंजस जीवन का एक क्रम है
वृतुल संपूर्ण ही प्रेम जनित है
शून्य अवस्था परम गणित है .

घटित जो होता वो संयोग है
पल प्रत्येक नया प्रयोग है
निर्भर करता कैसे ले हम
हर घटना एक सुयोग है.

(गुंज=पक्षियों का कलरव)

Wednesday, November 4, 2009

मनुज........(Ashu Post)


जब कहते हैं
मानव को,
पुकारते हो
बार बार
मनुज कह कर......
मनुष्य की ही तो
संतान हूँ
किसी चौपाये
कीड़े की नहीं
क्या तुम्हारी
दीठ ने भी
मोड़ ली है ?

आकाशवाणी हुई
मनुज कह कर
स्मरण दिलाया
जा रहा है
सृजन का
संस्कार का
संवेदना का
यह भी बताया
जा रहा है
तुम हो परिणाम
मिलन का
एक मानव और
मानवी के
हुआ था इसी
धरा पर
कभी ना समझो
इस तन को
इस मन को
बनाना है
दानव या

Monday, November 2, 2009



When the master told
Don't take
Lonliness and Aloneness
As synonymous,
As usual I discarded
The essence......
Began looking for
Holes in his saying
Confused I was
No answers to
My biased curiosity
More I think
More my brain is burdened
I went back to him
He smiled
He spoke :
Visualize two situations
Positive and Negative
Meditate on them
You may get answer
This is your question
This needs your answer
Your answer only
To satisfy your inner.........

Lonliness is negative
I am missing something
Aloneness is positive
I have found something........

When two lonlinesses meet
In the begining
In the honeymoon days
Both are dreamers
Dreamers remain excited
Excitement disappears
Emerges again the reality
That both were lonely
That both are lonely.........

When two lonlinesses meet
There cannot be any joy
They are not two
They are multiples
Even one lonliness is enough
To create hell
And when two meet
There are multiple hells.........

The lonlinesses
Become mirror to each other
There are reflections of
Miseries, wounds, frustrations
Boredoms of each other
How can this blossom in a
Beautiful loving relationship ?

When meets two meditators
There is friendliness
There is love
There is compassion
As both have tasted
The nectar of
Positive aloneness
Both are capable of enjoying
Their aloneness
The other is not needed
Now they relate
As they have to share
They have so much to share
This is not out of greed
This not out of need
This is out of abundance
This is out of overflowing joy.........

(Yah gyan bhi churaya hua hai.....jaise madhumakhkhi phoolon se shahad churati hai.....bas aapse yah madhu share kar raha hun aur khushi pa raha hun.)

Sunday, November 1, 2009

एक नज़्म : बिना उन्वान.

उम्मीद होती
वस्ल की उनके,
जो होते दूर हैं हम से
निगाहों में
बसे हैं वो
इक रंगीं सुरूर जैसे.....

महसूस करो जाना
सनम को इन हवाओं में
एहसास प्रीतम के
बसे हैं इन फिजाओं में
तस्वीर-ऐ-यार हर लम्हा
छुपी है इन निगाहों में
सो गए हैं हम खोकर
उनकी इन पनाहों में है
ऐ सूरज ! क्यों सताते हो
हमें रहने दो बाहों में.....

हिज्र की बात को छोडो
वस्ल के राग न गाओ
मूंद लो नयन अब अपने
सनम को पास में पाओ....

किस्से गुप्ता और मुल्ला के........

बड़े दिन हुए किस्सा कहे हुए. दो दिन से कुलबुलाहट हो रही थी की कुछ कहा जाय..... कहानी-किस्सों-कविताओं के बारे में आप जानते ही हैं कि पढने सुननेवाले से कहीं ज्यादा लुत्फ़ हम जैसे शौकिया किस्सागो लोगों को आता है, जब चार छः लोग तारीफ के कुछ शब्द कह डालते हैं. .....कभी कभी तो रूटीन प्रशंसा भी साहित्य अकादेमी पुरस्कार जैसी लगती है, जब बिना पढ़े भी कुछ लोग हमारे लिखे में कुछ पा जाने का नाटक करते हैं. गंभीर से गंभीर बात हास्य-व्यंग के माध्यम से कही जा सकती है, मगर सर धुन ने का जी करता है जब कुछ पाठक लेखक महाशय को भांड या मसखरा समझ, ज़बरदस्ती हा-ही कर लेते हैं, मगर रचना में छुपे पैगाम को आत्मसात करने का प्रयास तक नहीं करते. भगवान भला करे ऑरकुट का कई एक आईकोन भी मुहैय्या करा दिए.....बस कुंजी दबाते रहिये....आपकी हंसी का फुहारा लेखक के अंतर या गलतफहमी को भिगो देगा. ऐसे लम्हों में ग़ालिब के 'सद-वचन' जेहन में बरबस चले आते हैं, "हमें मालूम थी जन्नत की हकीक़त, दिल को बहलाने के खातिर ग़ालिब यह ख़याल अच्छा है."

हालाँकि हमारे 'शफक' पर बहुत ही ज़हीन और दिलदार लिखने वाले पढ़नेवाले हैं.....मैं तो जनरल बात कर रहा हूँ।

जैसे दवाओं के निर्माता चूहों पर अपनी दवाओं का परीक्षण करके बाज़ार में उतारते हैं, इस कलमकार ने भी अपनी रचनाओं को बाज़ार में भेजने से पहले कई दफा अपने अज़ीज़ दोस्तों मुल्ला नसरुद्दीन और गुप्ताजी की मदद ली है. चाय नाश्ते पर या बाइट्स-ड्रिंक पर महफ़िल जुटती है , मासटर बकता है, मुल्ला और गुप्ता कभी जागरूकता से, कभी तंद्रा में, कभी निद्रा में सुनते है और अपनी बहुमूल्य राय किस्सा, नज़्म या ग़ज़ल पर देते हैं. मासटर उनकी प्रतिक्रियाओं को विचरता है और तदुपरांत रचना को फाईनल शेप दे देता है.

शनिवार का दिन है आज. ऐसी ही महफ़िल जमी है कब से...मगर ना जाने कुछ ऐसा हुआ है कि मुल्ला कभी prejudiced होता है तो कभी मेरी रचना गुप्ता के preoccupations की शिकार हो जाती है सुबह से ही बात नहीं बन रही है. आप तो जानते ही हैं ऐसे जमावडों में प्रोडक्ट से ज्यादा बाय-प्रोडक्ट तैयार होते हैं. मुल्ला और गुप्ता ने इस दौरान लागर बियर के सुरूर में या कहें कि चाय कि चुस्ती में कुछ गप्पे हांकी थी जिसे किस्सा बना कर अनछाना ही आपकी खिदमत में पेश कर रहा हूँ......उम्मीद है आप
हमेशा कि तरहा मुझे बर्दाश्त करेंगे।

किस्सों के कंटेंट्स बासी है जैसे कि पहले के किस्सों के, बस इन्हें नए सिरे से छौंका है आपके लिए ..........शायद पसंद आये ना आये......'ओल्ड वाईन इन न्यू बोटल' समझ कर मुल्ला और गुप्ता को मुआफ कर देना..... उनकी हौसला अफजाई करना.....ताकि भविष्य में उनका उदय भी आपकी प्रशंसा पाकर अच्छे किस्सागोवों और कवियों के रूप में हो. प्रेरणा और प्रोत्साहन इन्सान को बहुत ऊँचा उठा सकते हैं....जीरो से हीरो बना सकते हैं......

और हाँ , मैं भी आजकल जरा 'लो फील' कर रहा हूँ, मुझे भी आपकी पीठ थप-थपायी की ज़रुरत है....मुझे निराश ना करियो.....

बयान गुप्ताजी का

एक दफा गुप्ती मायके चली गयी.....रूठ कर.....मुझे सुखी दाम्पत्य जीवन के सूत्र बताकर अपना वक़्त मत जाया करियेगा....मैंने 'शोभा डे' की पुस्तक 'स्पाउस' हा हिंदी अनुवाद पढ़ लिया है. अब आप से क्या छुपाना, गुप्ती का इंटर-फेअर जरा बढ़ने लगा था.....मान लिया- मैंने प्राथमिक तक शिक्षा पाई है.....और गुप्ती ने राजनीति शास्त्र और इतिहास में एम.ए किया है.....पति तो मैं ही हूँ ना ....अब बार बार वो पब्लिकली मुझे ड़ीफाई करने लगी....आखिर मेरी भी कोई इमेज है मासटर.....आप भी सुनिए जरा और बताइए इस में मेरा क्या दोष.....मेरे भी तो अपने नोर्म है एक पति के रूप में भी, एक मानव के रूप में भी....और आप जानते ही हैं मैं कारण अकारण कितना व्यथित रहता हूँ.....मेरा मूड आजकल कितना ऑफ रहता है.
उस दिन मैं बाज़ार से सब्जी खरीद कर लौट रहा था. देखा कि हमारे पारिवारिक मित्र शर्माजी का नौकर रामू मेरे घर से चला आ रहा है....मुडा तुडा सा उदास सा.......मानो कुछ ऐसा हुआ हो जो नहीं होना चाहिए....

रामू ने मुझे रस्मी नमस्ते तक नहीं की मुल्ला तो मेरा माथा ठनका, ज़रूर कुछ अनहोनी हुई है, रामू के चेहरे पर यूँ कभी बारह नहीं बजे देखे थे मैनें। रामू को उदास देख कर सोचने लगा मैं कि शर्मा परिवार पर क्या गुजरेगी जब रामू को मेरे घर से इतना व्यथित हुआ आया देखेगा वह परिवार. ना जाने शर्मा जी मुझ से पुरानी उधार का तकादा कर बैठे...मेरे बच्चों के लिए मांग कर लायी शर्मा के बच्चों कि पाठ्य-पुस्तकें लौटानी पड़े....शर्मा मेरी आलोचना दुनिया भर में करता फिरे....मेरे घर से रामू उदास होकर निकला....इसमें मेरी बीवी का ही दोष होगा....क्या समझती है वो अपने आपको...इत्यादि इत्यादि दुश्विचार मेरे मस्तिष्क में घुमड़ने लगे.
मेरे बगल से चौधरी गुज़रा उस ने भी पूछ लिया- "अरे रामू आज उदास क्यों है....सब ठीक ठाक तो.....श्रीमती शमा का बर्ताव तो ठीक है."
रामूवा दबी जुबान से बोला ,"भईया आज तो गुप्ताजी के यहाँ से बड़े बेज्जत होकर लौटे हैं." मेरी तो बांछे खिल गयी- क्या अधिकार था श्रीमती सावित्री गुप्ता MA (Pol Sc & History) को रमुआ कि इज्ज़त पर हाथ डालने की, लुटने के लिए क्या मेरी इज्ज़त कम पड़ गयी- मुझे पॉइंट मिल गया था....चौधरी ने भी तसदीक कर दी थी. रही सही कसर मासटर ! कपूर ने पूरी कर दी जो चौधरी को कंपनी दे रहा था. लगा कहने, "गुप्ते सब कुछ तुम्हारी कमजोरी के कारण हो रहा है....हम तो पहले ही कहते थे मत कर शादी इतनी पढ़ी लिखी से.....घर बिगाड़ देगी....मगर तू तो ठहरा लालची कहने लगा घर की तहजीब सुधर जायेगी.....बच्चों के संस्कार सुधरेंगे....पढ़ लिख कर कुछ बन जायेंगे....उनके बाज़ार भाव बढ़ जायेंगे.....आखिर परिवार के विकास के लिए ही तो आदमी जीता है. अब भी चेत गुप्ता, रस्सियाँ कस ले....मर्द बन नहीं तो आज रामू कि बेज्जती हुई है, कल हमारी और चौधरी की होगी " कपूर मेरे मुंह में आदतन अपने शब्द घुसा रहा था, भड़का रहा था, मैं भी भड़क रहा था क्योंकि मुझे सूट कर रहा था. सब बोले जा रहे थे....रामू चुप....खैर मैने चौधरी और कपूर से कन्नी काटी और रामू को मेरे साथ चलने का इशारा किया.....
रामू से पूछा था मैने-"क्या हो गया ?"
रामू बोला- "साहब हमारे पड़ोसी के यहाँ गैस सिलेंडर ख़त्म हो गया. हमारी भाभीजी ( श्रीमती शर्मा) ने शेखी बघार दी की चुटकी में व्यवस्था हो जायेगी और मुझे आपके यहाँ गैस सिलेंडर लाने भेज दिया. आपके वाली भाभीजी ने कहा की हमारा सिलेंडर जो लगा हुआ है ख़त्म होने को है और जो घर में रखा है उसकी दरकार होगी....बुकिंग भी लम्बी चल रही है.भाई साब के यहाँ ज़रुरत होती तो देना ही होता. अब परोपकार के लिए कैसे खुद को संकट में डाला जाय. जाओ कह दो भाभीजी ने कहा की सिलेंडर नहीं होगा. साहब बड़े अरमान से हमारी भाभीजी ने हमें आपके यहाँ भेजा था...यहाँ हमारी इज्ज़त का फालूदा हुआ और वहां पडोसन के सामने हमारी मालकिन का, हम तो कहीं के ना रहे."
रामुवा टीवी सीरियल देखते देखते बहुत भावुक और dialoguebaz हो गया था.....श्रीमती शर्मा भी खुद को कभी तुलसी तो कभी पारवती समझने लगी थी.....शर्मा परिवार की संस्कृति में सतही भावुकता विद्यमान थी। खैर, रामू 'हर्ट' हुआ था, वह शर्माजी के यहाँ से काम छोड़ सकता था, और शर्मा भाभी शर्माजी को तलाक तक दे सकती थी की कैसे दोस्त रखते हो.....या डिप्रेसन में आ सकती थी कि एक पडोसन के लिए सिलेंडर कि व्यवस्था नहीं कर पाई. बहुत ही दूरगामी परिणाम हो सकते थे इस बात के. किन्तु इस से ज्यादा मुझे अपनी अथॉरिटी का चैलेन्ज होना सता रहा था. मैं आगे और रामुवा पीछे पीछे आशा के दीपक जलाये हुए कि गुप्ती को डांट मिलेगी, रामुवा को सिलेंडर, शर्मा भाभी की इज्ज़त की रक्षा,समस्त आदर्शों का रखाव.
रास्ते में मैने प्रोस और कोंस सोचे और पाया कि सावित्री का कहना वाजिब था, मगर मेरी अथॉरिटी.....?

रामुवा को लिए मैं घर के दरवाज़े पर पहूंचा. कहा सावित्री से, "तुम्हारी यह मजाल कि रामू जो मेरे लंगोटिए शर्माजी का वफादार सेवक है, को इस तरहा इन्कार कर देना.....जानती हो इसके नतीजे क्या क्या हो सकते हैं, तुम्हारे कहने से रामू का दिल टूट सकता है वह दरभंगा लोट सकता है, शर्माजी का तलाक हो सकता है या भाभी डिप्रेसन में आ सकती है, पढ़ी लिखी हो मगर जानती नहीं कि 'ए फ्रेंड इन नीड इस ए फ्रेंड इन डीड'......हिम्मत कैसे हो गयी इतने गंभीर परिणामों को दरकिनार रखते हुए तुम्हे रामू से सिलेंडर के लिए इन्कार करने की."

रामू के चेहरे पर ओज आ रहा था.....उसे सात्विक आनंद्जनित प्रकाश एवम हर्ष कि प्राप्ति हो रही थी.
कह रहा था--"हमें मालूम था भैय्या ही न्याय करेंगे.....आखिर भैय्या कि बराबरी कहाँ ? हमारी मलकानी हमेशा ही कहती है सयाना हो तो गुप्ताजी जैसा, सब आगे पीछे कि सोच कर करता है....दुनिया देखी है.....किस बात को किस तरीके से कहा जाय अच्छी तरह जानता है।"
मुझे आत्मतोष हो रहा था रामू के बेन सुन कर. सावित्री की बोलती बंद हो गयी थी.
मैने सोचा भाई मुल्ला और मासटर कि सिलेंडर देने से तीन बातें होगी. एक मेरे घर में खाना कैसे बनेगा. दो शर्मा सिलेंडर कि कीमत उधार में एडजस्ट कर लेगा तीन शर्मा भाभी यदा कदा फिर सिलेंडर मँगाने लगेगी.
मैने कहा -"रामू इस घर का मुखिया कौन ?"
रामू बोला, "भैय्या आप."
मैने कहा, "भाभीजी को हाँ या ना कहने का अधिकार है रामू ?"
रामू बोला, "कतई नहीं."
मैने पूछा, "रामू मैं समझदार हूँ या बेवकूफ ?"
रामू बोला, "भैय्या बिलकुल समझदार."
मैने कहा, "मेरी जगह तुम होते तो क्या करते."
रामू बोला, "सिलेंडर नहीं देता."
मैने कहा," रामू में तुम से सहमत हूँ. जाओ शर्मा भाभी को जैसे तैसे समझाओ मेरे भाई सिलेंडर नहीं हो सकता."
कन्फ्यूज्ड सा रमुआ महाप्रस्थान कर गया गुप्ता खाणे से.

मैं भगवान को कह रहा था, "चाय बनाओ." और वो थी कि रूठ गयी थी, अपना सामान पेक कर रही थी. अब बताओ मेरी क्या गलती थी.....घर के मुखिया के नाते मैने मुआमले को ठीक से डील किया तब भी सावित्री रूठ गयी. भई 'ना' कहने का अधिकार मेरा, बात तरीके से कहना मुझे आता है उसे नहीं. और इतने बड़े बड़े हादसों की आशंका, नाज़ुक मसलों को समझदारी से निपटाया जाता है.

(मुल्ला गुप्ता की गिलास भर रहा था और मैं अपनी कविताओं के बारे में सोच रहा था.)



Immediate interpretations
So quick
Happens this
There is
No time to
Ponder over them.......

One understands only
Which one wishes to understand
Which one can understand
BUT Alas !
That is not understanding at all
Just moving and wandering
In circles.........

One has to be
More aware
So that
Bloody prejudices
Don't interfere >
Old and gathered ideas
Don't come in >
One doesn't jump on conclusions.....

With prejudices
One goes on
Repeating old junk
That one knows already
It gives momentary comfort
BUT alas !
One cannot see anything new
One will see something
That is not there
At all.....

Prejudice is
Preoccupation is
Preoccupation is
Preoccupation is
Peeping and looking through
Colored eyes..........

Preoccupied mind is
A dull mind
Preoccupied mind is
A borrowed mind.........

Unoccupied mind is
And one of the base
For meditation.........

Let us drop
Let great emptiness arise
Let awareness happen
Let us recognize our SELF..


Intellect is a memory system
For collecting information......

Intellect goes through
Ready-made answers
The answers provided by
Others-parents, teachers,leaders
Rule books
Even intellectuals use them to
Justify their misdeeds
They are parrots
They are mechanical beings
They are HMV (His Master's Voice) records
The I.Q. test is really a
M.Q test : Memory Quotient test
Not a Intelligence Quotient Test.

Intelligence is spontaneity
Intelligence is ability to respond
Intelligence is awareness
Intelligence is love
Intelligence is joy
Intelligence bring freedom
Freedom from conditioning
Freedom from rule books
Freedom from stupidity.......

Unintelligent person behaves
According to readymade answers
According to rule books-scriptures
Which he carries on his back
He is afraid of depending on himself
Unintelligent person disrespects himself
And poses to respects others
He lives in conflicts of mind and confusions

Intelligent person depends on
His own insight
He trusts is
Own being
He loves himself
He respects himself
AND he loves and respect others.......

Even surrender is achieved
Through intelligence
Surrender is to see
You are not separate from existence
Surrender is surrendering to oneself
Only idiots cannot surrender
As they have inflated EGOs
As they live on intellect
NOT on intelligence
And therefore they are never in peace

Just live totally
Live intelligently
Live in harmony
Live in awareness
AND everything follows

(Yah gyan churaya hua hai.....jaise madhumakhkhi phoolon se shahad churati hai.....bas aapse yah madhu share kar raha hun aur khushi pa raha hun.)

Friday, October 30, 2009


Survives on

Is a fiction
Created through

Is nourished by

Superiority and
Inferiority are
Fall out of

Superior person
Deep down
Inferiority complex.......

Sufferer of
Inferiority complex
Deep down
Superiority complex........

All comparisons are

Simply be

How can you be
Superior or
If you are just

गरीबनवाज़ की खिदमत में .....


मेरा ख्वाजा मेरा राजा
धड़कता तू यह सीना है
ज़िन्दगी की अंगूठी में
जड़ा तू इक नगीना है.......

मंगता हो या महराजा
सभी का वो ही दाता है
जो उसके दर पे आता है
करम उसके पा जाता है
रूह का नूर है ख्वाजा
जीने का करीना है
ज़िन्दगी की अंगूठी में
जड़ा वो इक नगीना है.

दया का सागर है ख्वाजा
इमरत का गागर है ख्वाजा
अगर पीना तुझे बन्दे
पनाह उसकी में तू आजा
पतवार दे दे तू उसको
पार होना सफीना है
ज़िन्दगी की अंगूठी में
जड़ा वो इक नगीना है.

रोशनी है वो सूरज की
बादलों का वो पानी है
चांदनी चाँद की है वो
मौजों की रवानी है
हर-इक गुलाब में बसता
ख्वाजा का पसीना है
ज़िन्दगी की अंगूठी में
जड़ा वो इक नगीना है.

धन दौलत ना मैं मांगू
ऐशोआराम ना चाहूँ
तमन्ना है के बस इतनी
सुकूने-ए-ज़िन्दगी पाऊं
तू मेरी ही काशी है
तू ही मेरा मदीना है
ज़िन्दगी की अंगूठी में
जड़ा तू इक नगीना है.

Wednesday, October 28, 2009

इन्द्रधनुषी...... (आशु प्रस्तुति)


ललचाया था
खारा जल
सागर का
पाने सूरज का सोना,
धरा था वेश उसने
बादल का
चढ़ चला था

पवन ने खायी थी
चुगली उसकी
बना कौडा तड़ित का
भास्कर ने
मारी थी 'मार'
उस लोभी को
बह निकले थे

भय से हो आक्रांत
उस लाचार ने
चुप चाप निकाल
किया था सुपुर्द
चुराया हुआ
हार इन्द्रधनुषी.......

शरमाया था इतना
मासूम सा चोर
मेघ था उसका नाम
मिट गया था
बरस गया था
गल गल
बह गया था
संग नदी के
कल कल
पहुँच गया था
अपने घर
फिर वह जल........

परछाई (आशु प्रस्तुति)


तन्हाई भी आज अपना
मुझे हाथ नहीं देती
वक़्त ने बदला है रुख ऐसा
परछाईं भी साथ नहीं देती......

सुने है खूब किस्से
कुदरत की दिलदारी के
वोह भी रूठी है हम से
कोई सौगात नहीं देती......

हारना चाहता हूँ
मुद्दत से उस से
शह तो दिए जाती है
मगर मात नहीं देती........

चाहत में उसकी
लिखे थे अनगिनत नगमे
अल्फाज़ तो देती है ये कलम
ज़ज्बात नहीं देती.....

रूह और जिस्म के सौदे
नहीं होते इस तरहा
रस्में दे देती है छत तो
कायनात नहीं देती.......

घुट घुट के जीओं तो
नवाजेगी यह दुनिया
तपता सा दिन देती है
पुरसुकूं रात नहीं देती.....

मैं.......(गुप्ताजी की एक ताजी कविता)

मुल्ला नसरुद्दीन मेरे अज़ीज़ हैं वैसे ही एक और अज़ीज़ है 'गुप्ताजी' , याने छेदी लाल गुप्ता 'हापुड़ वाले'.....परचून कि दुकान चलनेवाले गुप्ताजी कविता लिखने का शौकीन है....उनकी कविताओं का उतार चढाव बहुत ही शानदार होता है.....उनके किस्से भी अपने में बहुत मजेदार होते हैं......समय समय पर स्थानीय कवि सम्मेलनों का आयोजन करते रहते हैं गुप्ताजी, संयोजन भी कर डालते हैं.....नतीज़न उन्हें भी अपनी कवितायेँ पेश करने का सौभाग्य मिल जाता है....पिछले सप्ताह गुप्ताजी मिल गए थे पुष्कर राज में......उन्होंने एक कविता सुनाई जो पेश कर रहा हूँ। उनकी कविता में आपको नाना रस मिलेंगे.....

मैं.......(गुप्ताजी की एक ताजी कविता)


सागर को चुल्लू में भर पी जाऊंगा मैं
पर्वत को लगा ठोकर उखाड़ दूंगा मैं
हवा को बांधना बस खेल है मुझ को
घटाओं को उँगलियों पे नचाउंगा मैं.

यह साँसे चलती है मेरे इशारे पे
यह दुनिया चलती है मेरे सहारे पे
नदियों की कलकल है मेरा करतब
कहने पे मेरे कछुए आते है किनारे पे.

रुपैय्ये की तीन अठन्नी कर सकता हूँ मैं
बिना पम्प टायर में हवा भर सकता हूँ मैं
बनिया हूँ खानदानी फटी बनियान पहने हूँ
धेले-पैसे के खातिर कसम से मर सकता हूँ मैं.

किस जालिम ने यह मधुर राग उधेड़ा है
दुकानदारी के वक़्त यह कैसा बखेडा है
बतियाँ क्यों गुल है डर लग रहा है मुझे
किसने इस ढीले स्विच को अब छेड़ा है.

देशी घी में वनस्पति मिला दूंगा
चावल को कंकर का संग दूंगा
चाय मैं मिला दूंगा लीद घोड़े की
पुराने मसालों को नया रंग दूंगा.

वज़न की बात ना करो ऐ दोस्त !
आदतन मारी मैंने थोड़ी डंडी है
छाछ है गरम मेरे गोकुल में
तासीर-ए-दूध बहुत ठंडी है.

शरीर और आत्मा : गुप्ताजी की एक नज़्म

यह दार्शनिक कविता गुप्ताजी ने उस दौर में लिखी थी जब फेरी लगाकर बिसातीगिरी करते थे याने गली गली घूम कर महिलोपयोगी वस्तुएं बेचा करते थे और दोपहर में शीतल छांव, ठंडा पेय और परसाद पाने के बहाने 'भागवत ज्ञान यज्ञ' या 'संत संगत' में बैठ जाया करते थे....दर्शन और धंधे का अद्भुत समावेश है लाला छेदी लाल गुप्ता 'हापुड़ वाले' कि इस रचना में.......

शरीर और आत्मा
अलग अलग हैं
सासतर भी कहा करते हैं
गाहे बगाहे बुजुर्ग भी
ऐसा ही कुछ फ़रमाया करते है,
शरीर जिनका सचमुच
हो गया है नश्वर सा
कमज़ोर और मजबूर
वक़्त की खाते खाते मार
आत्मा जिनकी बन चुकी है
मज़बूत और मगरूर
जिस्म जिनका
जला करता था
अगन मोहब्बत की में
अब जलने को तैयार है
आग मरघट की में
ऐसे सीनियर सिटीजंस
अपने तुज़ुबों को मुफ्त
हमें लुटाते हैं,
अपनी कमजोरियों को
येन केन प्रकारेण छुपाते हैं
हकीक़तें जिनकी
चली आई है मध्यप्रदेश से
कश्मीर में
कभी कभी ऋषि मुनि से बन
बातें पते की बताते हैं
धंधे के उसूल और
धर्म के सिद्धांत
देखो कितने है समान
माल बेचना हो तो
दूर रखो ये कोमल से अरमान
हसीनो की गलियों में
जब जब फेरी लगाते हो
अपने इश्किया ज़ज्बे को 'लाला'
क्यों धंधे से मिलाते हो
एहसास है उनकी खुशबुओं का तो
ले ले लुत्फ़ बेझिझक ऐ गुप्ते !
मोल भाव के दौर में
क्यूँ ज़ज्बात को खिलाते हो
कंघी, लाली, काजल, आइना, चोली
बेच ले ऐ नफा कमाने वाले
दिवालिया हुए हैं मजनू, राँझा , महिवाल
सब इश्क फर्मानेवाले.....
चेत मानव मूढ़ अज्ञानी
धंधा करते हुए ही प्रेम कर
हे भ्रमित प्रानी ......

Monday, October 26, 2009


# # #
बुतशिकन था,
तोड़े ही
जा रहा था

किसी के
हाथों को
किसी के
धड को
किसी के
सर को
तोड़ देता था मैं ..

जब से देखा
तुम को
मैंने पाया
तुम तो हो
एक मूरत
बसी हुई
मन मंदिर में

कैसे तोडूं
दिल अपना,
दिल तुम्हारा ?
बन गया है
यह मूर्तिभंजक
एक प्रेम पुजारी..


अंजुरी (आशु प्रस्तुति)


अंजुरी में लहराते जल में
जब जब झाँकू मैं सजना
अक्स तुम्हारा देख वहां
सोचूं यह कैसा है सपना.

पी जाऊँ इस अमृत जल को
तुझे समाने मन-तन में
रौं रौं को महका दो साजन
ज्यों खुशबू हो उपवन में.

राहें और बाहें.....(एक छोटी कविता )


राहें नहीं पहुंचाती
बाँहों तक
उड़ना होता है
आकाश में
पर कटने पर भी
चलना होता है
बीहड़ में
लहू लुहान
पावों से........

जुगलबंदी ( छोटी कविता)


लरज़ते होंठ
बुला रहे हैं मुझे......
मौन की
महफिल में
पेश होनी है
जुगलबंदी हमारी.....

Sunday, October 25, 2009

निर्भयता........(Chhoti Kavita)

समर-थल धोरे पर
हिरन कि आँखों में
देखी थी :
यह सब कुछ था
निर्भयता की

(समरथल-धोरा-राजस्थान बिसनोयियों का तीर्थ स्थल है......बिश्नोई जो हिरणों और पेड़ों की रक्षा को धर्म मानते हैं-सलमान खान केस याद कीजिये)

मंजिल तुझे पुकारेगी.....


कदम बढा गर तू चला
मंजिल तुझे पुकारेगी.

धूप है बहुत कड़ी
बारिश की बंधी झड़ी
पर ना थम पल घड़ी
जीत जै जैकारेगी
मंजिल तुझे पुकारेगी.....

दिन जलता बलता ढलता है
रातों में चाँद चमकता है
मार्ग ना छोडा तो राही
पवन स्वेद को पौंछेगी
तेरी वो राह बुहारेगी
मंजिल तुझे पुकारेगी ......

तू फूल को मुस्का के देख
तू शूल को भी हंस के देख
तू हिचक मत झिझक मत
ये बहारें गीत जायेगी
कुदरत आरती उतारेगी
मंजिल तुझे पुकारेगी.......

(एक राजस्थानी गीत से प्रभावित)

पति परमेश्वर (आशु प्रस्तुति)


सुना था
कर परिष्कार स्वयम का
बन सकते हैं हम भी ईश्वर
माना जाता है यह भी कि
लेते हैं अवतार जगदीश्वर
पूजे जाते हैं क्यों
ये बुत घर घर
ना जाने मुफ्त में
ये पति
बन गए कैसे परमेश्वर ?

अक्ल नहीं
शक्ल नहीं
गुण नहीं
कुव्वत नहीं
चलतें हैं मगर ऐंठ कर
मां के लाल बने
यह निशाचर भी तो
सोया करते हैं बैठ कर
ना जाने क्यों फिर भी
समझते है स्वयम को सर्वेश्वर
ना जाने मुफ्त में
ये पति
बन गए कैसे परमेश्वर ?

कष्ट अपने
होतें है अति महान इनको
दुःख भार्या के लगते हैं
नन्हे नन्हे से इनको
इनके दर्पण में
एक छवि है पूर्वांकित
देखा करतें हैं उसे
नयन इनके
होकर आह्लादित
समझा करते हैं
खाविंद हुज़ूर खुदको
ना जाने मुफ्त में
ये पति
बन गए कैसे परमेश्वर ?

पांच परमेश्वरों ने
दाँव पे लगा दिया था उसको
एक महऋषि ने
पत्थर बना दिया था उसको
अफवाहों से हो के मजबूर
ले डाली थी
अग्निपरीक्षा उसकी
देशनिकाला दिया था हामला को
ना सोची थी हालत उसकी
आज भी समझते हैं
बाटा कि हवाई से सस्ती उसको
बीवी है बस इक गुलाम
मानते हैं जरिया-ए-मस्ती उसको
करिए स्वागत फिर भी मुस्कुरा के
आये हैं तेरे दर पर
ये 'सेल्फ-स्टाईलड'
मैले कुचेले 'प्रियवर'
ना जाने मुफ्त में
ये पति
बन गए कैसे परमेश्वर ?

(किश्वर=देश/country हामला= गर्भवती/प्रेग्नेंट कुव्वत=शक्ति/पॉवर.)

Friday, October 16, 2009

कोमल जमीं - नाजुक आसमां/ Komal Jamin-Nazook Aasman

ना बरसा
अंतर के घन को
नयनों की राह से
पिघल ना जाये कहीं
यह कोमल जमीं
यह नाजुक आसमां.......

naa barsaa
antar ke ghan ko
nayanon ki raah se
pighal na jaye kahin
yah komal jamin
yah nazook aasman

नथ औ कुर्सी

फर्क बस इतना है
नथ औ कुर्सी में
उसको उतारा जाता है
इससे उतारा जाता है...........

Farq bas itna hai
Nath O kursi men
Usko utaara jata hai
Isse utara jata hai........

(Aatish Sahab kee aek sabse chhoti kavita ke padhte waqt upji thi yah kavita)

Avshesh.....(Chhoti Kavita)


ऋण अगन दुश्मन का
शेष अवशेष तनिक
बढेगा अपरम्पार
कर डालो निर्मूल सम्पूर्ण
यही उचित व्यवहार.....

(दुश्मन तभी समाप्त होता है जब दिल से दुश्मनी ख़त्म होती है)

rin, agan, dushman ka
shesh avshesh tanik
badhega aparampaar
kar dalo nirmool sampurn
yahi uchit vyavhaar.....

(dhushman tabhi khatm hota hai jab dil se dushmani khatm hoti hai)


तन दीपक
मन बाती
भया तेल
प्रेम सशक्त ,
नव इतिहास.....

चक मक से
जला दिया
बाती को,
आलोक दूत था
देने को

दूर हुआ
हुई जगमग
हर दिशी
हर ओर
बीती थी रात
मावस की,
महकी महकी भोर......

Thursday, October 15, 2009

एक दास्तान : चलते चलते.....

(सिक्के का यह एक पहलू है.......)

ढलती दुपहरी में
मिले थे तुम
तुम भी
बुझे बुझे से थे
हम भी हो गए थे
रीते रीते से
जिन्द का ढोते ढोते बोझा
करते तीन तेरह
तुम्हारी भी हरियाली
सूखने को आई थी
दूब हमारे यहाँ की भी
पीली पड़ चुकी थी
एकरसता ने कर दिया था
नीरस सब कुछ
हम भी बच्चों को
पाल पोष
लिखा पढ़ा
पा चुके थे निजात
तू ने भी छू ली थी
उंचाईयां ज़िन्दगी की........

कहने को जीवन साथी था
हमारा भी
तुम्हारा भी
मगर बरसों
एक छत को शेयर करने में
एक दूजे का दोहन करने में
अपना अपना रुतबा
कायम करने में
तुम से ऊँचा मैं
साबित करने में
एक दूसरे के इतिहास-भूगोल पर
तबसरा तनकीद करने में
साथ रहते रहते
हो गए थे
दोनों अजनबी
मैं और वे
तुम और वह...............


तुम आये तो लगा
बहारें लौट आई है
पेड़ों पर नए पत्ते
उग आये है
गुलशन में महक है
नए फूलों की
ज़िन्दगी सेज है
जैसे नर्म गुलों की
तुम्हारे सात और
हमारे चार गोलियां खाने का
असर था कि कुछ और मेरे मौला
पाकर इस खिले खिले से साथ को
मेरा दर्दे कमर ओ पीठ था गायब
तुम्हारी चीनी में भी आई थी गिरावट
इश्क की ताक़त ने बना दिया था
हमें चुस्त और तंदुरुस्त
मैं साड़ी ओ सूट से
आ गयी थी वेस्टर्न में
तुम्हारे जर्जर जिस्म पर भी
शोभायमान थे
गुची और वर्साचे
बालों की सफेदी को
छुपा रहे थे
हसीं रंग लोरीअल के
हर नयी मूवी
हर नयी इवेंट में
अपना पाया जाना
हो गया था लाजिमी
बार क्लब रेस्तरां
बन गए थे हमारे हिस्से
बोलचाल की भाषा हमारी का भी
हो गया था आधुनिकरण
हमारे आदर्श अब
बदल कर हमारे ही बच्चों और
उनके दोस्तों में समा गए थे.....
तुम्हारे फ़ोन की हर 'बुज्ज़'
दिल में जलतरंग बजा देती थी
अंखिया बस तुम्हे सिर्फ तुम्हे
देखने को तरस जाती थी
गुनगुनाती थी मैं
मैं वही दर्पण वही
ना जाने क्या हो गया कि
सब कुछ लागे नया नया......


अचानक लगा था कि
इश्क मुश्क खांसी
छुपाये ना छुपे
मेरी मजबूरी थी,
परदे कि आड़ में
इनसे पोशीदा
सब कुछ कर सकती थी
मगर हाय री दैय्या
जब होने लगे तेरे मेरे
प्यार के चर्चे हर जुबां पर
लगा था
इनको भी हो गया मालूम
और सब को खबर हो गयी
मैंने अपनाया :
'त्रियाचरित्रं पुरुषस्य भाग्यम
देवो ना जानियति किम नरा'
बन गयी सती सावित्री
मुड़ कर एक सौ अस्सी के कोण से
कुछ भी कहो
मैंने तो की थी
तुम से सिर्फ एक पाक दोस्ती
तुम्हारा दूषित मन कुछ और
समझ बैठा तो मैं क्या करूँ ?
मैंने तो किया था
महज़ सौदा मन का
तू ने तन की तिजारत
समझ ली तो मैं क्या करूँ ?
मैंने चाँद और सितारों की
तमन्ना की थी
मुझे रातों कि सियाही के सिवा
कुछ ना मिला...
हदों को जब तब तू ने ही
लाँघने की हिमाकत की थी
माना कि मुझे भी
सब लगता था अच्छा
मैं तो थी निरीह नारी
जिसके अनुभव थे सीमित
तुम तो थे सर्वशक्तिमान पुरुष
क्यों नहीं सोचा
मैं किसी और की अमानत हूँ
कैसे हो सकता है
मैं नसीब हूँ किसी और का
मुझे चाहता कोई और है
तू ने बहकाया बरगलाया
मुझ भोली को
माना कि दोस्ती की थी मैंने तुम से
मगर हमेशा कहा करती थी ना:
मेरा पति मेरा देवता है........

कैसा है यह मिसरा ...( आशु रचना )


हर कतरे में समा जाये
नाम किसी का
अबोला सा मिलने लगे
पैगाम किसी का
समझना तुम कि
बेला आई है
तुम को तुम से
मिलाने की
गुलशन-ए-रूह में
फूलों को खिलाने की
भटक ना जाना
यह राहें अनजानी है
बालू के टीलों पर
मौजों की रवानी है
शीतल आग का किस्सा
गर्म बर्फ की जुबानी है
ठंडी हवा में हैं तपिश
लू भी कैसी बर्फानी है
इस रेत के समंदर में
खुश्क अश्कों का पानी है
सच-झूठ पुन-पाप की
बातें सब बेमानी है
रूह-ओ-जिस्म का फर्क
अधूरे होने की निशानी है
हर जेहन में बस्ता
बातें कुछ पुरानी है
बेकार है यह बातें
इनमें क्या आनी जानी है
अल्फाज़ के खेल हैं यह
हकीक़त में फानी है
हर ज़ज्ब-ए-शौक की वज़ह
कैद-ए-तन्हाई में
फ़ित्रत इंसानी है
कैसा है यह मिसरा के :

"ज़िन्दगी और कुछ भी नहीं
तेरी मेरी कहानी है........."

मुस्कराईये ! (आशु रचना)

होता नहीं गवारा..... टुक मुस्कुराईये
आइना खफा खफा है टुक मुस्कुराईये !

उदासियाँ बसा कर क्यूँ सो गए हैं आप
सूरज चढा है सर पर अब जाग जाइये !

नहीं है कोई आखिर दौर-ए-ज़िन्दगी में
हर मोड़ पे ख़ुशी के नगमों को गाईये !

चल पडो अकेले पर्वाह है क्यों औरों की
मंजिल आपकी है खुद राहें बनाईये !

चाहत में गैरों की खुद को भुला दिया
मौका है खुद से आज मोहब्बत जताइये !

Tuesday, October 13, 2009

सिलसिला (आशु रचना)


सिला देने का यह
सिलसिला चलता रहा
सितम-ए-यार की
मेहरबानियों में
मैं गलता रहा..........

दिल दिया तो
दगा दिया था उस ने
नज़दीक आया तो
भगा दिया था उस ने
उसकी लगायी आग में
मैं जलता रहा
सिला देने का यह
सिलसिला चलता रहा....

सीढ़ी समझ कर मुझ को
वो चढ़ता रहा
खाकर ठोकरें उसकी
मैं गिरता रहा
कुचल मुझ को
जमाना चलता रहा
सिला देने का यह
सिलसिला चलता रहा....

रात-ओ-दिन मेरे साथ
गुजारा करता था वो
मेरी नज़रों से हर इक
नज़ारा करता था वो
मंद होते सूरज के साथ
रिश्ता भी ढलता रहा
सिला देने का यह
सिलसिला चलता रहा....

उदासियाँ उसकी को
संभालता रहा था मैं
ग़मों को उसके
दिल में अपने
पालता रहा था मैं
मेरी मायूसियों को
कर अनदेखा
वो फलता रहा
सिला देने का यह
सिलसिला चलता रहा....

मैं मरा तो
लिए आँखों में आंसू
रस्में निभा रहा था वो
अपने नालों को
बुलंदिया दिखा रहा था वो
भरी मुठ्ठियों से
तूफाँ अरमानों का
लहद में डलता रहा
सिला देने का यह
सिलसिला चलता रहा....

Monday, October 12, 2009

मनोवांछित (आशु रचना )

सोच रहा था
क्या अंतर है
वांछित और
मनोवांछित में.....

सुबह किसी का अलाप
आरती के रूप में
सुना था
मनवांछित फल पावे
कष्ट मिटे तन का........

जिज्ञासा हुई
फल मिल रहा है
वांछित मन का
दूर हो रहे हैं
कष्ट तन के
शायद मन की
हर वांछा
तन पर केन्द्रित हो......

इतना उदारमना तो नहीं
राही मनुआ
जो सोचे अपने अलावा
किसी और का
शायद यही नीयति होती है
मनवांछित की...........

सोचा था पूछूँगा मन से :
भाई साहब
आप अपने लिए कुछ
नहीं मांगते क्या
बोल उठा था मन :
मैं तो
किन्तु मूढ़,
नहीं जानता
हित अपना
चाहने लगता हूँ
पूरा हो मेरा
हर सपना.......

लगा था पूछने मन तरंगी :
तुम तो हो मासटर
बताओ ना
क्या है वांछित
क्या मनोवांछित ?

समझ गया
मनुआ है
बहुत चतुर चालाक
कभी ना होते इसके
इरादे पाक
समझ मुझको विक्रम
खुद को बेताल
उलझा रहा है मुझे
सवालों में
जाना है इसे दूर
लटकने झूलने को......

मैंने किया था तय
रहूँगा मैं मौन
धरूँगा मैं ध्यान
करूंगा दूर
मेरा अज्ञान
करता रहूँगा
ना कि मनोवांछित.......


देखा है ना
अकेली चिडियां को
बुनते हुए घोंसला !

उड़ती है वो
कभी इधर
कभी उधर
लाती है
चुन चुन कर
हरेक तिनका
जमाती है
सजाती है
तब जाकर बनता है

क्या हुआ
मर्द उसका
उठा लाता है
कभी इक्का दुक्का
कोई तिनका,
निबाहने अपना
पुरुष धर्म
जगत व्यवहार.......

सृजन का परिश्रम
मानो कृतव्य हो
मात्र चिडियां का
नितान्त नारी का,
होता है
जिसकी आँखों में
भविष्य का एक सपना
एक अनदेखा सत्य
जो नहीं लेने देता है
उस जननी को
एक पल विराम
निमिष एक विश्राम.....

Sunday, October 11, 2009



देखता था
दर्पण हर दिन
उस अभिनय को जानने
जिसे ओढे
मैं जिये जा रहा था
ज़माने में......

आज मैं
रुक गया हूँ
थम गया हूँ
देखने अपना असली अक्स
आईने में......

परतें उतार उतार
देखे जा रहा हूँ
नहीं पा रहा हूँ
स्वयम का असली स्वरुप....

समाज, सम्बन्ध, अहम् ,
हीनता, प्रशंसा की प्यास
जीजिविसा, निबाहने का भ्रम,
क्रीड़ा, तृष्णा, इर्ष्या, द्वेष,
मोह, मद, लोभ, भय
और ऐसे ही बहुत
बना चुके थे मुझे बहुरूप.....

प्रत्येक के तर्क थे
हरेक के फर्क थे
खो गया था मैं
जो भी दिखता था दर्पण में
मान लेता था मैं
अपना प्रतिबिम्ब.....

उतार फैंके है आज मैंने
सब आवरण
जिन सा बनने
मैं स्वयम को
रहा था तोड़-मरोड़.........

आज नितांत अकेला
नितान्त नग्न
उपस्थित हूँ
दर्पण के सम्मुख
मुझे दिख रहा है
वह बिम्ब
जिसे अब तक मैं
अपनी कल्पना में
माना करता था
परम अस्तित्व.....

धुल गए हैं आज बहुरूप
निखर गया है मेरा स्वरुप
नहीं है मेरा कोई रूप
मैं तो हूँ अरूप
आज बन गए है सब आवरण
मेरे अनुरूप
हर अभिनय हो गया है जीवंत
नहीं रहा कुछ भी
निर्जीव प्रारूप.............

भाग गया है तिमिर
सब कुछ है आलोकित
देख पा रहा हूँ
स्वयम को
तुम को
उन को
सब वही है
किन्तु मेरी दृष्टि आज
कुछ और पहचान रही है
जो जैसा है
उसे वैसा ही
जान रही है.................


Friday, October 9, 2009

शून्य ( O )...........(आशु कविता)

हो जाती
अन्तर्वस्तु विहीन
रह जाता है
मात्र चैतन्य...........

दर्पण होता है
जब मुक्त
प्रतिबिम्बों से
रह जाता है
केवल दर्पण.........

होते हैं
भरे हुए हम
अवस्था कहलाती है

होते हैं
हम शून्य
घटित होता है

अवस्था जिसमें :
वस्तु नहीं
विचार नहीं
चित्त नहीं
मन नहीं
होता है शून्य
बस शून्य...........

यही है निर्वाण
यही है मोक्ष
यही है केवल्य.........

तर्पण (आशु रचना)


शब्द ना जाने
क्या क्या
अर्थ पाकर
बन जाते हैं रूढियां
'तर्पण' बन गया
देवों और पितरों के
जलार्पण का एक उपक्रम
उच्चारण के साथ ही
याद आ जाते हैं
कुछ जले मुरदे
कुछ गडे मुरदे
चोलों को ही करते हैं
नीर का अर्पण
आत्मा तो अनन्त है
अजर है अमर है
वे देह ही तो थे
जो चले गए
तुम देह भी हो आत्मा भी
मैं भी देह हूँ आत्मा भी
आओ ना हम
क्यों ना करें
तृप्ति की इस क्रिया को
बनायें प्राणमय सार्थक......

सिंदूरी.....(Ashu Kavita)


तुम उदय हुए तब थे सिंदूरी
अस्त समय भी हो सिंदूरी
चेहरे का औज तेरा सिंदूरी
हंसी तेरी खिल रही सिंदूरी
मुस्कानों में रंग सिंदूरी
स्पर्श किया...........
हुए कपोल सिंदूरी
रूठा जो मैं ..........
मिजाज़ तेरा सिंदूरी
बाँहों में है बदन सिंदूरी
मन में सपने भरे सिंदूरी
बात सिंदूरी रात सिंदूरी
स्पंदन आघात सिंदूरी
प्रेम निमंत्रण है सिंदूरी
क्यों ना मिटा दें...........
कृत्रिम दूरी.

खंडहर.......(आशु रचना)


किले के वे खँडहर
जहां हम तुम
मिला करते थे,
उजड़े से दयार में
उम्मीदों के फूल
खिला करते थे........

बिछुड़ गयी थी तुम
ना जाने क्या क्या
वास्ता देकर,
जुदा हो गयी थी
मुझ से मेरी मंजिल
एक भटका सा
रास्ता देकर....

Tuesday, October 6, 2009

अभिसार (जैसा महक ने पढा)

मिलन की
वांछा लेकर
सोया तो था.........

तेरी छवि को
नयनों में
बसाया तो था..........

स्पर्श तुम्हारे ने
मुझ में
स्पंदन कोई
जगाया तो था..........

तेरे मधुर गीतों ने
मुझे दीवाना
बनाया तो था............

मेरे उपवन में
पुष्प तुम सा
प्रकृति ने
खिलाया तो था.........

तपिश से व्याकुल
तन मन को
पवन ने
ठंडा झोंका कोई
बहाया तों था.........

स्वप्न में
आया था मैं
साथ मिला था
हर पल का
साँसों के दौर में
कठिन था
तुझ को
मुझ को
अभिसार के
अभिप्राय से
मुझ को तुम ने
बुलाया तो था.........

अभिसार (एक आशु कविता)


मिलन की
वांछा लेकर सोया तो
नहीं था.........
तेरी छवि को
नयनों में बसाया तो
नहीं था..........
स्पर्श तुम्हारे ने
मुझ में
स्पंदन कोई जगाया तो
नहीं था..........
तेरे मधुर गीतों ने
मुझे दीवाना बनाया तो
नहीं था............
मेरे उपवन में
तुम सा पुष्प
प्रकृति ने खिलाया तो
नहीं था.........
तपिश से व्याकुल
तन मन को सहलाने
पवन ने
ठंडा झोंका कोई बहाया तो
नहीं था.........
स्वप्न में आया था मैं
साथ दिया था हर क्षण में
साँसों के दौर में
कठिन था पहचानना
तुझ को
मुझ को
अभिसार के अभिप्राय से
मुझ को तुम ने बुलाया तो
नहीं था.........

Monday, October 5, 2009



ना जाने
पहने हुए हैं
हम कितने
आवरण.......... ?

पाखंड नहीं
धोखा नहीं
प्रवंचना नहीं
होते हैं कभी कभी
हमारे मौलिक
नम्र स्वभाव के
शालीन से

औरों के लिए
मनोभावनाओं से
प्यारे दुलारे

हम करते हैं
पर्वाह उनकी
व्यथित होते हैं
दुखों से उनके
ओढ़ लेते हैं हम
झीने झीने से

ज़माने की
चोटों से
बचाने निज को
लपेट लेते हैं
स्वयम पर

होती यह दुनिया
विक्षिप्त सी
हिंसा-प्रतिहिंसा का
नग्न नृत्य कराती
यदि ना होते
हंस की पंखों से

हो जाते
धूल धूसरित
निर्मल से
यदि ना होते

Thursday, October 1, 2009

मानव और मधुमक्खी/ Manav Aur Madhumakkhi......


रंग रूप
स्वाद सुगंध को
जकड़ कर
नामों की जंजीरों में
समझ रहा है मानव
स्वयम को............

नहीं समझ पा रहा
ठिठौली की है प्रकृति ने
उसके साथ
दिखाया है उसको
भिन्न भिन्न
गुलाब और आक का गात.......

नन्ही सी मधुमक्खी
नहीं है भ्रमित
आकार में प्रकार में
अलग अलग
रूप और व्यवहार में
उसे तो तलाश है
मधु की
जो छुपा है दोनों में
नहीं जाननी
जात उसको
आक और गुलाब की..........

पहुंचता वही है
सही जगह
जो लगाता है चित्त
शोध और बोध में,
पा जाती है सार
उलझा रहता है
बुद्धि विलास
सतही आमोद
और प्रमोद में........
Rang roop
Swad sugandh ko
Jakad kar
Naamon kee zanzeeron men
Samajh raha hai manav
Swayam ko........

Nahin samajh pa raha
Thithauli ki hai
Prakriti ne
Uske saath
Dikhaye hain usko
Bhinn bhinn
Gulab aur aak ke gaat.......

Nanhi si madhumakkhi
Nahin hai bhramit
Aakar men prakar men
Roop aur vyavhaar men
Use to talash hai
Madhu ki
Jo chhupa baitha hai
Donon men
Nahin janni jaat usko
Aak aur gulaab ki.........

Pahunchata wahi hai
Sahi jagah
Jo lagata hai chitt
Shodh aur bodh men,
Pa jati hai saar
Uljha rahta hai
Buddhi vilaas
Satahi aamod
Aur pramod men.....

Tuesday, September 29, 2009



मत बना
कलम को
कुंठित मूर्तिकार की छैनी
भोगी मानव का अलगौज़ा
निर्ल्लज चित्रकार की कूची
यह तो है
साक्षात् सरस्वती
करने आलोकित
आत्मा को
मिटाने जीवन-द्वंद को
क्षमता इसकी
गवां मत तू
इसकी नोक से
झरते अमृत को
सस्ती राग-रागिनियों में
व्यर्थ के बिम्ब-प्रतिबिम्बों में
शब्दों के जाल
मिथ्या आलम्बों में........

Monday, September 28, 2009



बहादुरी के मायने
खून-खराबा और
अतिक्रमण हो गए थे
हो गयी थी चैरी
जीत और हार की
इंसान बँट गए थे
दोस्त और दुश्मनों में
शौर्य ने स्नेह को
दिया था पछाड़
तहरीर लिख दी गयी थी
चाहिए और ना चाहिए की
बातें होती थी
अहम् रुतबों और सन्मानों की
फ़र्ज़ के नाम पर चढ़ती थी
बलि अरमानों की.............

छोड़ के तलवार
अपनाया था मैंने
जब कलम को
हंसा था
हर कोई
मुझ पर.........
भूल कर कि
बुद्ध और महावीर भी
क्षत्रिय थे
फर्क इतना था
किसी ने बाहर के शत्रुओं को
जीत कर मनाया था दशहरा
किसी ने अंतर के अरियों को
कर पराजित
सीखाया था विश्व को
प्रेम का ककहरा.......

Sunday, September 27, 2009

किसी से प्यार ना करियो.........


किसी से प्यार ना करियो के आहें सर्द दे देंगे
मिला ना जो भी अपनों से तुम्हे नवर्द दे देंगे

गुलों में चुभन होती है
ख़ुशी ग़मगीन होती है
हंसी के बहते आंसू है
खिज़ा रंगीन होती है

ज़माने को ना कह देना पलट कर गर्द दे देंगे
किसी से प्यार ना करियो के आहें सर्द दे देंगे

जो देखा वो नहीं होता
जो सोचा वो नहीं होता
ज़माने का अज़ब दस्तूर
जो चाहा सो नहीं होता

ये नाज़ुक पांव ना धरियो के कांटे दर्द दे देंगे
किसी से प्यार ना करियो के आहें सर्द दे देंगे

लहू हो जाता है पानी
मोहब्बत मायने फानी
सभी मतलब के हैं नाते
करता है क्यूँ मनमानी

आईने देख मत भरमा वे चेहरा ज़र्द दे देंगे
किसी से प्यार ना करियो के आहें सर्द दे देंगे

Saturday, September 26, 2009

शिव तुम बिन अधूरा है.....

(भजन : तर्ज़-ऐ मेरे दिले-ए-नादान तू गम से ना घबराना)
मेरे साथ रहो शक्ति
शिव तुम बिन अधूरा है.....

तन मन की कोमलता
दृढ़ता हो विचारों की,
अभिप्रेरणा हो शुभ की
नियंता हो आचारों की.

तुम ना हो तो हे देवी
संसार ना पूरा है
मेरे साथ रहो शक्ति
शिव तुम बिन अधूरा है.....

तुम अध्यात्म की ज्योति हो
ज्वाला हो साहस की
तुम से आलोकित हो
रजनी भी अमावास की

तेरे बल से व्यवस्थित ही
धरती का धूरा है
मेरे साथ रहो शक्ति
शिव तुम बिन अधूरा है.....

करो नाश विकारों का
मिटे भेद आकारों का
जागृत हो मन मेरा
मिटे भ्रम प्रकारों का

तेरी चरणों में ही तो
काबा और मथुरा है
मेरे साथ रहो शक्ति
शिव तुम बिन अधूरा है.....

Wednesday, September 23, 2009

वो ईद.........

(कभी कभी कोई दोस्त कुछ ऐसा पूछ बैठता है कि ना कहते बनता है ना ही चुप होते.....और शुरू हो जाता है फ्लैश बेक.)

मिले जा रहे थे
गलों से गले
सीने से लग रहे थे कोई
मौका भी था
दस्तूर भी,
बांटी जा रही थी
बिखर रही थी
अत्तर की महक,
मीठी मीठी थी
खारे खारे से थे
तेरी आँखों के
मेरी आँखों के
ना मिल सके थे वे भी
चेहरे पर फिसल
कुछ गिर गए थे
कुछ सूख गए थे
कुछ का क्या हुआ था
हम दोनों
अपनी अपनी मौत
मर गए थे
लोगों ने
ईद मना ली थी
हमारा था
हा !............
हम नहीं थे.

सिला दे रहा कोई...........


ज़िन्दगी के हर लम्हे का हिसाब ले रहा कोई
गुनाह जो ना किये उसकी सजा दे रहा कोई.

क्यों आया था जमीं पर मकसद था क्या मेरा
हो के मुंसिफ सवालात को अंजाम दे रहा कोई.

लग गयी जो आग अश्कों से क्या कसूर मेरा
चस्मा-ए-मोम से शोलों को बुझा दे रहा कोई.

वो कहते थे के हम से ही रोशन है महफिल
कलाम-ए-रकीब को क्यों दाद दे रहा कोई.

गैरों की बात क्या कहें अपनों की दास्ताँ है
मुठ्ठियों में भरी खाक से सिला दे रहा कोई.

(बकलम : विनेश राजपूत )

Monday, September 21, 2009

मेरा इज़हार बस इशारा है............


तुम को सुनना ही बस गवारा है
चुप रहना फैसला हमारा है.

तुम उड़ते जाते हो हवाओं में
हम को जमीं का बस सहारा है.

डूब जाते हैं सफीने बिन तूफाँ के
नसीब होता नहीं किनारा है.

हकीक़तों में जीते-मरते हैं हम
तसव्वुर का जुआ तुम्हारा है.

मीठा मीठा सा हर जर्रा है तेरा
जायका जुबाँ मेरी का जरा खारा है.

बारिश की बूँद है हर लफ्ज़ तेरा
मेरा हर कलाम इक शरारा है.

लुत्फ़ लेते हो तुम हर लम्हे का
यह कैसा मेरा तंगदस्त गुज़ारा है.

ईद के चाँद हो तुम मेरे हमसफ़र
गर्दिश में हर इक मेरा सितारा है.

तुम मैं हूँ मैं हो गया हूँ तुम
कैसा यह मंज़र कैसा यह नज़ारा है.

खुलासा है हर बात तेरी ऐ दोस्त !
मेरा इज़हार बस इशारा है....

Saturday, September 19, 2009

दास्ताँ खूनी (?) रिश्तों की.......


खूँ के रिश्तों की या खूनी रिश्तों की बात करते हो
ज़ख्मी हो मगर हस्ती-ए-माशरे की बात करते हो.

ज़ख्म होना है बदन को नश्तर से छुआ करते हो
दर्द सह कर भी मुआफ करने की बात करते हो .

जब तलक ज़रुरत थी तेरा साथ निभाते थे लोग
हो गए तुम नकारा किस एहसां की बात करते हो.

चुनना ओ निभाना सांकलों को ना था तेरे बस में
आजाद हो मुकम्मल क्यूँ कफस की बात करते हो.

खून अपने से सींचा था खून-आलूदा इन रिश्तों को
जीने लगे हो खुद पे क्यों मरने की बात करते हो.

Friday, September 18, 2009


मुस्कुराती है लबों पर ज़िन्दगी
छलक जाती आंसुओं में ज़िन्दगी......
जीने की जगमग रोशनी के तले
रोज़ मौत को खोजती है ज़िन्दगी............

काँटों को सहता है फूल कबीले में
प्यास भी रहती है सूखी गीले में
मंजिल से पहले सट मिल कर गले
सुख दुःख की राहें करती है बंदगी
मुस्कुराती है लबों पर ज़िन्दगी
छलक जाती आंसुओं में ज़िन्दगी......

पौ फटी एक दीपक जलकर बुझ गया
बीज गला फिर बूटा भी एक उग गया
करनी से पहले ही जायेगा मर अनायास
यह जान पाया ना करनेवाला ताजिंदगी
मुस्कुराती है लबों पर ज़िन्दगी
छलक जाती आंसुओं में ज़िन्दगी......

दिन हंसा था मार कर अँधेरे को
दिन मरा था गले लगा अँधेरे को
बजरिये जीत-हार के बैलों के
चलता कोल्हू.. बीतती है ज़िन्दगी
मुस्कुराती है लबों पर ज़िन्दगी
छलक जाती आंसुओं में ज़िन्दगी......

Thursday, September 17, 2009

क्या फायदा..............

दरिया के किनारों को मिलना नहीं
इस तरहा दिल लगाने से क्या फायदा
ज़िन्दगी में कभी साथ होना नहीं
दूरियों को मिटाने से क्या फायदा.........

आग मन में यह क्यूँ यूँ सुलग सी गयीं
प्यास तन में यह क्यूँ ऐसे जग सी गयी

जब से कलियों से नज़रें यूँ बचने लगी
हिजाब -ए-गुलशन हटाने से क्या फायदा
ज़िन्दगी में कभी साथ होना नहीं
दूरियों को मिटाने से क्या फायदा.........

आह और चाह में कोई रिश्ता नहीं
मेरे खूँ से यह पानी भी सस्ता नहीं

मेरे ज़ख्मों को धोने से राहत नहीं
मरहम जुबाँ से लगाने से क्या फायदा
दरिया के किनारों को मिलना नहीं
इस तरहा दिल लगाने से क्या फायदा.........

पाक तक़रीर करते बहमन-शेखजी
हो ना हो यह इरादे कोई नेक जी

झूठी बातों को सुन सुन थके मेरे कान
कुरान-ओ-गीता सुनाने से क्या फायदा
ज़िन्दगी में कभी साथ होना नहीं
दूरियों को मिटाने से क्या फायदा........

झूमना ओ बहकना है दिल कि अदा
जाम-ए-सेहत उन्ही के पीये हैं सदा

वल्लाह यारी से प्यारी अदावत मेरी
गम में आंसू बहाने से क्या फायदा
दरिया के किनारों को मिलना नहीं
इस तरहा दिल लगाने से क्या फायदा.........

Wednesday, September 16, 2009

जोगी अटक गया (एक फक्कड़ टेर)...............

हो गयी उसको आस-निरास
जग गयी दिल में अंधी प्यास
अबहूँ आये ना कुछ भी रास
रहता गुम-सुम और उदास
किस में अटक गया
रे जोगी भटक गया !

बस कांटे खुद के झाड़
बनायीं बिरथ ही तू ने बाड़
सबद है झूठी थोथी राड़
कि दे तू पोथी पन्ने फाड़
जेहन तेरा सटक गया
रे जोगी भटक गया !

मन के बंद पटल तू खोल
यह तेरे झूठे से हैं बोल
करे ना खुद का तू क्यूँ मोल
जगत से कैसी झालमझोल
आइना चटक गया
रे जोगी भटक गया !

सुई का नहीं साधा निसान
फजूल में क्यूँ रहता परेसान
सच से रहा सदा अनजान
करता रहा तू बस एहसान
धागा अटक गया
रे जोगी भटक गया !

लीन्ही जप माला तू हाथ
अंतर मन का रहा ना साथ
तेरी निरथक है सब बात
कि जैसे सूखे सूखे पात
बीच में लटक गया
रे जोगी भटक गया !

किसी ने पूछी जात ना पांत
ज्ञान को देखा..देखा ना गात
जोगी को मिल गया ऐसा साथ
कि जैसे बिन बादल बरसात
मनुआ मटक गया
रे जोगी भटक गया.......

Monday, September 14, 2009

हिंदी के विकास में हीन ग्रंथि पाल कर बाधक ना बने..

आज बचपन में एक अध्यापक महोदय से सुनी बात समृति में आ रही है, "हिंदी भारतीय भाल की बिंदी है." मैं अपने प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक स्वर्गीय हरख चन्द जी प्रजापत को प्रणाम करता हूँ, जो यह वाक्य उच्चारित करते थे और हिंदी के प्रति गर्व एवम अनुराग की भावना हम विद्यार्थियों में अभिपूरित करते रहते थे. उन्ही के मार्गदर्शन का परिणाम है कि, 'साहित्य विधा' का औपचारिक अध्ययन मैंने नहीं किया किन्तु भाषा और साहित्य का आनन्द मैं अनवरत ले पा रहा हूँ. मेरा अनुभव यह कहता है कि बच्चों को प्रारंभ से ही हिंदी का ज्ञान कराना, हिंदी-संस्कृत वांग्मय के गौरवपूर्ण भंडार पर गर्व करने की प्रेरणा देना, उन्हें बताना कि हिंदी विश्व की किसी भी भाषा से कम नहीं है, हिंदी और भारत की सेवा के लिए सर्वाधिक सार्थक प्रयास होगा. हिंदी जानना, बोलना, लिखना और पढना बच्चों के लिए गर्व कि बात होनी चाहिए, ना जाने क्यों माता-पिता बच्चों के साथ अंग्रेजी में गिट-पिट करते रहते हैं. उन्हें प्रेरित करते हैं यह समझ मस्तिस्क में उत्पन्न करने हेतु कि हिंदी अपनाना पिछडेपन का
प्रतीक है। कभी कभी हिंदी भाषी लोग भी बहुत गर्व से कहते हैं, "ना बाबा मुझे हिंदी नहीं आती." बहुत ही दुःख की बात है यह.

व्यावसायिक दृष्टी से भी हिंदी का ज्ञान अत्यावश्यक है. विश्व का दूसरा बड़ा उपभोक्ता वर्ग हिन्दीभाषी है, जिन्हें इस वैशवीकरण और बाज़ारप्रणाली के दौर में उत्पादों को बेचा जाना है. विपणन और विज्ञापन के लिए हिंदी अपनाना अत्यावश्यक हो गया है. देखिये-----'कूल कूल' से पहिले 'ठंडा-ठंडा' कहा जाता है विज्ञापन में. कंप्यूटर के माध्यम से भी हिंदी इक्कीसवीं शताब्दी की सफल अभिव्यक्ति का आधार बन चुकी है. वे सभी देश अपनी भाषा को ही ज्ञानात्मकता और भावनात्मकता का अनिवार्य आधार बना चुके हैं, जिन्होंने विश्व में अपना स्थान बनाया है. वैज्ञानिक "टेम्पर" के समस्त कारकों को दूर तक स्वयम में ढालती भाषा हिंदी, हमारी संस्कृति, ज्ञान, दर्शन और अध्यात्म की भी विश्व में संवाहक हो रही है. विश्व कि व्यापारिक विवशता उसके महत्त्व को स्वीकार कर रही है.
हिंदी भाषा देश और विदेश के विस्तृत फलक पर स्वयम बढ़ रही है. आवश्यकता केवल इस बात की है कि हम उसके विकास और प्रसार में किसी हीन ग्रंथि के चलते बाधक ना बने. अपनी भाषा ही समस्त 'उन्नति का मूल' है., यह आधुनिक हिंदी भाषा के निर्माता भारतेंदु जी ने एक शताब्दी पूर्व ही कहा था, वही हमें आज समझना है.

A Journey To Attainment…….

The idea of
What you wish to
Think of this
Over and over
Over and over
Until this becomes

You have created
A belief
A constant frequency
That you transmit
And this
Will create
Your Life
Through the
Law of Attraction
That responds
What you
And believe me
My friend !
You Will
You will


Sunday, September 13, 2009

समूह कि मानसिकता............

मुझे इस कविता के भाव बहुत आकर्षित किये। बिना मूल कृतिकार की अनुमति से मैं ने इसका देवनागरी लिपि में कुछ संशोधनों के साथ पुनर्गठन किया है....मूल भाव जस के तस है, भाषा का प्रारूप भी लगभग वैसा ही है....अनु जी स्वयम भी यदि इसका पुनरवलोकन करते तो ऐसा ही कुछ करते.....मैं उनसे क्षमा प्रार्थी हूँ कि उनकी अनुमति के बिना उनकी रचना पर मैंने संशोधन करने का दुस्साहस किया है, अगर उन्हें ऐतराज़ होगा तो मैं सादर इसे 'delete' कर दूंगा.....आशा है वे मेरे मनोभावों को समझेंगे.

जो हमें बावरा कहतें है,
वो हमें आसरा क्या देंगे ?
मर मर के सींचा जिनको हमने ,
वो फसलें आज जला देंगे .

मेरी हर बात पे जो भी हंसते है,
मुझे भीख में क्यों यूँ दुआ देंगे ?
कुदरत का कहा खलता जिनको
वो अक्स को मेरे मिटा देंगे.

जिनका दिल खाली खाली है
दे कर भी हम को क्या देंगे ?
मेरे आंसू और मेरे ग़म को,
तरकीबों से और बढ़ा देंगे.

"कोई मन्दिर में नही रहता अब "
यूँ कहने पे मेरे बद दुआ देंगे ,
चुभते तानों से मेरी इज्जत पे,
नास्तिक का चिह्न बना देंगे .

जिस गली से मैं गुजरा फिर से
तमाशा वो कोई बना देंगे ,
जिल्लत से दबे मेरे कन्धों पर
बोझा कुछ और चढा देंगे.

कुछ बहलाकर कुछ फुसलाकर
मरने की सलाह मुझको देंगे,
कभी भूल के जो यह सांस भरूं
मुझको फिर याद दिला देंगे.

मेरा इन्सां होना जिन्हें गवारा ना हो,
किसी तरहा भी मुझे हरा देंगे ,
मेरी हार पे जश्न मनाएंगे
मेरी हर इक आस भुला देंगे .

जब तक रहूँगा जिंदा मैं
मुझे तरहा तरहा सतायेंगे
मरने पे समाधी पर मेरे
वो मंदिर भव्य बनायेंगे.

महावीर को कीलें ठोंकी थी
शंकर को ठुकराया था
दयामूर्ति यीशु मसीह को
लोगों ने शूली पर चढाया था.

समूह की यह मानसिकता है
असुरक्षा स्वार्थ अतिशयता है
कैसे मुझे बर्दाश्त करेंगे वो
केवल सच मेरी आवश्यकता है.........

बातें जागृत मन की............


बातें होती
पाप पुण्य की
होती बातें
इन्द्रिय-दमन की
बातें होती
विचार शमन की
कर लें बातें
जागृत मन की.........


इन्द्रियों के सहारे
जग है दृष्टव्य
प्रदत है
जग के मंतव्य.......


खो जाते क्यों
चकाचौंध में
बन अतीन्द्रिय हम
जियें बौध में ..............


शब्द तीन
का लें हम
उपादेय ..........


विश्व का
प्रत्येक पदार्थ
प्रिय अप्रिय
अनुभव का स्वार्थ
साक्षी भाव से
हम अपनायें
रग द्वेष विमुक्त
हो पायें......


परखें सब को
हेय जो हैं
त्यागें हम उस को,
उपादेय को हम अपनाएं
विवेक जनित
प्रसन्नता पायें.........


क्यों हों
हम इन्द्रिय
कर दमन बने
हम क्यों

जागृत हो
हम जीते जायें
जीवन का
पीते जायें............

मोहब्बत मुल्ला की.........

आदमी बड़ा ही अजीब जंतु है. हर बात को अपने तौर पर देखता है और उसका इंटरप्रेटेशन भी तदनुसार करता है. कभी कभी तो ऐसा भी होता है वह देखता कुछ है, सोचता कुछ है, निरूपण कुछ करता है किन्तु बारी जब कहने कि आती है वही कहता है जो उसके मनोनुकूल हो, हितों के अनुसार हो, या जो उसे किसी भी काल्पनिक अथवा वास्तविक असुरक्षा से टेम्परेरी रिलीफ उपलब्ध करा सकता हो. कभी कभी व्यक्तियों के वचन उनके माहौल, धंधे अथवा मान्यताओं के अनुरूप भी होते हैं. कहने का तात्पर्य यह कि बोले या लिखे गए शब्द बहुत ही इंटरेस्टिंग मौके देते हैं सोचने समझने और हंसने के.

मिसाल के तौर पर इश्क में डूबे लोगों के संवाद लीजिये. एक हलवाई अपनी प्रेमिका से कहेगा :
"रसीली ! तुम तो इमरती कि तरह हो, रस से सरोबार, तरह तरह के घुमाव लिए हुए, तेरी खुशबू देशी घी की सौंधी सौंधी मेह्कार है......जी करता है कि ....."
रसीली रेस्पोंड करेगी, " मीठा लाल ! तुम भी तो पेड़े की तरह सॉलिड हो........और घुल भी जाते हो.....मगर क्या करूँ मुझे तो मीठे के साथ नमकीन भी भाती है......कभी मीठा- कभी नमकीन, फिर मीठा......."
मीठा लाल कहेगा, "रसीली मेरी जलेबी ! जमाना बदल गया है, हलवाईयों के यहाँ भी R & D होने लगी है, काहे फ़िक्र कर रही हो तेरे लिए मैं 'two-in-one' बन जाऊंगा."
रसीली कहेगी, "नहीं खानी हमें तुम्हारी 'two-in-one' मीठा के बाद नमकीन चाहिए...उंह..."

एक और मिसाल. खानदान से शासक, न्यायाधीश और सलाहकार हैं ना हम, फरियाद सुनना, उसपर माथा पच्ची करना, भाषण देना, फैसला करना.....हमारी फ़ित्रत हो गयी है. आजकल किसी को सलाहकारी के लिए वक़्त नहीं, कोई टेम खोटी नहीं करता मगर हम है कि इन्तेज़ार में रहते हैं कि कोई मुर्गा फंसे......तरह तरह के मुआमले आ जाते हैं हमारे पास विचार विमर्श और पंचौट के लिए. एक बार किसी कंपनी के दो अफसरों ने मिलकर घोटाला किया परचेज में. 'बूटी' के बंटवारे को लेकर मतभेद हो गया.......चले आये दोनों नमकहराम हमारे पास अपनी फरियाद लेकर. मैंने सोचा अनैतिक कार्य किया है इन लोगों ने. मुझे इसमें कोई भी रूचि नहीं लेनी चाहिए. मगर 'पंच बाज़ी' कि खुजली दोस्तों बड़ी तीखी होती है. बुद्धि ने बोला- "मासटर ! तुम्हारा काम तो 'डिस्पुट' को समझ कर निर्णय करना है....जो विद्यमान है दोनों के बीच."
खैर हमने इजलास लगायी. सुनवाई की....

श्याम लाल बोला---"सर जी ! यह राम लाल बड़ी कुत्ती चीज है. देखिये ना इसने कितनी बेइमानी की है, 'किक बेक' की रकम मुझे ठीक से नहीं बताई."

रामलाल ने अपना पक्ष रखा--- "सर जी ! आप इसकी बातों में बिलकुल मत आना. श्याम लाल झूठा है एक नंबर का झूठा. 'टेक्नीकल स्पेसिफिकैशन्स' को अप्रूव करने में इसने तन और धन दोनों पाए थे , मगर मुझे भनक तक नहीं होने दी. यह तो मैं भी उस गेस्ट हाउस में ठहरा तो केयर टेकर से मालूम हुआ......"

श्यामलाल बोला-"सर जी ! बड़ा कमीना और ऐय्यास है यह रामलाल्वा, पूछिये इसे, क्यों गया था वहां....क्या इसने भी वहां जो कुछ पाया मुझे बताया...गया गुज़रा कहीं का."

देखिये दोनों चरित्र आत्माएं कैसे कैसे निर्वचन कर रही है. अपने साथ जो हुआ वह धोखा है, मैंने किया वह ठीक, मगर दूसरे ने किया वह ऐय्यासी है, बेईमानी है..... और तुर्रा यह कि दोनों एक नंबर के पाजी हैं.

कोई ईमानदार अफसर गलत काम नहीं होने देता तो कहा जाता है : " बनर्जी बड़ा बदमाश है, बेवकूफ भी, साला घिसे कपडे पहनता है मगर जो देते हैं उसे रिफ्यूज करता है, क्या हुआ जो बहुत पढ़ा लिखा है...MA Phd है अक्ल हम मेट्रिक फैलों जैसी भी नहीं...उंह...."

आप सोचेंगे तो ऐसे कई उदाहरण मिलेंगे. कहने का मतलब यह है कि इन्सान अपने अनुसार घटनाओं, बातों, व्यवहार आदि का निर्वचन करता है, सत्य को 'इग्नोर' करने में ही उसे ' कम्फर्ट ज़ोन ' मिलता है.

अब मुल्ला की ही लें. जवानी के दिनों मुल्ला एक करोड़पति बाप की बेटी के प्रेम में था और कहता था : "चाहे जीवन रहे कि जाये, तुझे नहीं छोड़ सकता. मरने को तैयार हूँ, अगर ऐसी कोई नौबत आ जाये. शहीद हो सकता हूँ, मगर तुम्हें नहीं छोड़ सकता....साथ जियेंगे साथ मरेंगे...."

एक दिन लड़की बहुत उदास सी थी. उसने नसरुद्दीन से कहा, " सुनो ! मेरे बाप का दीवाला निकल गया वह सड़क पर आ गया."

मुल्ला बोला, " मुझे पहिले से ही मालूम था कि तेरा बाप ज़रूर कुछ ना कुछ गड़बड़ खड़ी करेगा और हमारी शादी नहीं होने देगा."

मुल्ला विवाह जिस वज़ह से कर रहा था, वह ख़त्म हो गयी थी, मगर मुल्ला कि कसक उस से ऐसा कहला रही थी....लोजिकली बाप के सर ठीकरा फूटा रही थी.

हमारे रिश्ते..... हम कहतें कुछ और हैं , कारण उनका कुछ और ही होता है. हम बताते रहते कुछ और हैं ....मज़े की बात यह है कि हम जो बताते हैं, हो सकता है कि हम वैसा ही मानते रहे हैं...कि यही सच है. हम इस तरह खुद को भी धोखा दे लेते हैं. हम सिर्फ दूसरों को धोखा देते हैं केवल ऐसी बात नहीं, यह करम हम खुद पर भी कर लेते हैं. बड़ा चतुर चालाक है आदमी ......खुद को भी धोखा दे लेता है.


Saturday, September 12, 2009

बाकी तो बस राम ही राखे ~!

रहते हैं हम एक मकाँ में
कहने को परिवार हैं हम
समझ गये हम इक दूजे को
करते छद्म व्यवहार हैं हम
क्यों ना हम अंतर में झांके
बाकी तो बस राम ही राखे ~!

मुस्कान हमारी एक छलावा
मीठी बातें हैं बहकावा
छुरी कतरनी मन में चलती
प्रेम भाव का करें दिखावा
देने से पहले ; क्यूँ नहीं चाखें
बाकी तो बस राम ही राखे~!

बातें करते हम एकत्व की
करें हरक़तें हम पृथकत्व की
दूजे की नहीं चिंता हम को
स्वार्थपरता है बात महत्त्व की
रिश्तों की यूँ काटें शाखें
बाकी तो बस राम ही राखे~!

अहम् पोषण प्रमुख मंतव्य है
ना पथ है ना ही गंतव्य है
जुदा है डफली राग जुदा है
कैसे ये संकीर्ण वक्तव्य है
चुन्धियाई है क्यूँ ये आँखें
बाकी तो बस राम ही राखे ~!

पर उपदेश कुशल बहुतेरे
गणित मिलाते तेरे मेरे
संशय घोर जमाये डेरे
निज हित के लगते हैं फेरे
मैं परितृप्त, तेरे हो फाके
बाकी तो बस राम ही राखे ~!

अँधा दर्पण अँधी सूरत
दृष्टि में है भंगित मूरत
ह्रदय भ्रमित है कुंठित है मन
रूह प्यासी और प्यासा है तन
कैसे ये जीवन के खाके
बाकी तो बस राम ही राखे ~!

यारी में क्योंकर यह शर्त है
एक हैं हम तो क्यूँ यह परत है
रिश्तों की बुनियाद गलत है
हार जीत की क्यूँ यह लड़त है
रोयें क्यूँ ?... मुस्काएं गा के
बाकी तो बस राम ही राखे ~!

Friday, September 11, 2009


खोजा उसको
यहाँ वहां
सब जहां
छुपा बैठा है वो
कहाँ कहाँ कहाँ ????????

बताया था फकीर ने :

होता है जहां
गुरुर-ओ-गफलत का खात्मा
वहीँ पर मिलता है
आत्मा से परमात्मा......

मुल्ला की घड़ी..

मुल्ला बड़े अच्छे वक्ता हो गए हैं. उसकी नेट्वर्किंग का कमाल तो है ही, आस्था चॅनल और संस्कार टीवी पर कई दिन चिपके रहना भी उनको एक्सपर्ट बना दिया है. आत्मा, परमात्मा, पाप पुण्य, धर्म-कर्म, नैतिकता, पूजा-पाठ आदि पर धड़ल्ले से बोलतें है मुल्ला. ज्योतिष, हीलिंग, योग की बातों में भी दखल रखने लगे हैं मुल्ला इन दिनों.
मानव धर्मी हो गए हैं मुल्ला आजकल. आयोजकों द्वारा सभाओं में बोलने के लिएमुल्ला को जगह जगह बुलाया जाता है ( ऑफ़ कोर्स अगेंस्ट पेमेंट--मुल्ला कि दरें कम हैं ना इसलिए ) . हिन्दू और जैनों में मुल्ला ज्यादा लोकप्रिय हो गएँ हैं, कारण एक विधर्मी जब आपके धर्म कि बातें करने लगता है तो अपना धर्म कुछ और महान लगने लगता है. बुजुर्ग लोग कहते भी हैं कि धर्म और बच्चे अपने और बीवियां/खाविंद हमेशा दूसरों के अच्छे लगते हैं. सुना होगा आपने-"हमारे धर्म की हर बात विज्ञानसम्मत है....उस दिन गुरूजी कह रहे थे............" या "बबलू को देख कर बस का कंडक्टर इतना खुश हुआ कि उसको गोद में उठा लिया...मेरी गोद से ले लिया........" या "तुम से तो अच्छे बगलवाले माथुर साहब हैं........." या " देखो मालती को कितना अच्छा कैरी करती है खुद को, क्या ड्रेसिंग सेंस है.....एक तुम हो गाँव की गंवार......." हाँ तो मैं भटक गया हूँ 'एज यूजुअल' सब्जेक्ट से.....

मुल्ला कोई भी काम करने से पहिले अपनी घड़ी ज़रूर उतारते हैं. चाहे भाषण देना हो या कुछ और करना हो......एक दफा मुल्ला की नयी 'ओमेगा' खो गयी, जो शायद किसी NRI महिला श्रोता ने विशिष्ठ बनने के लिए मुल्ला को भेंट चढाई थी. मुल्ला परेशान...गयी तो घड़ी कहाँ गयी. ? सब जगह खोज ली मगर कहीं नहीं मिली. पूछ ताछ भी की ...मगर नतीजा सिफर. मुल्ला ने मुझ से अपनी व्यथा कही. मैंने कहा, "मुल्ला लगता है तुम्हारे किसी श्रोता का काम है यह, क्योंकि धर्म सभाओं में धर्म का उल्लंघन करना आम बात है, जूते चप्पलों, छतों, चैन ,घड़ी, पर्स इत्यादि का इन्ही गेद्रिंग्स में 'चेंज ऑफ़ हेंड्स ' होता है........और भी बहुत कुछ होता है," मैंने तनिक शर्मा कर कह डाला था मेरे यार मुल्ला को.

फिर कहा मैंने, " मुल्ला ! आजकल तुम लगातार एक ही संस्था की सीमित श्रोताओं वाली सभाओं में बोल रहे हो तो चोर का क्ल्यू वहीँ से हासिल होगा. कल तुम 'चोरी' पर बोलो और श्रोताओं के चेहरे पढो, उम्मीद है कि क्ल्यू मिल जाये."

मुल्ला अगले रविवार जब मेरे पास आया तो 'ओमेगा' पहने हुए था. मुझे भी तारीफ़ की तशनगी सताने लगी. मैंने कहा, "मुल्ला मैंने सही मशविरा दिया था ना, देखो तुम्हारी 'ओमेगा' मिल गयी."

मुल्ला बोला, "यही तो तुम बुद्धिजीवियों की समस्या है. हर बात बेबात में श्रेय लूटना चाहते हो....भई इसका क्ल्यू जानने क्र खातिर मैं 'चोरी' पर बोला ज़रूर था,मगर उस दिन नहीं क्ल्यू तो मिला जब मैं ब्रहमचर्य और व्यभिचार पर तक़रीर कर रहा था.....मासटर तुम ठहरे पिंजरे के शेर मगर हो मेरे पक्के दोस्त, अब तुम से क्या छुपाना....मुझे ख़याल आ गया था उस रात मैं कहाँ गया था." [:)]

मैं ने अपना सिर ठोंक लिया था.

मुल्ला मस्का लगाते हुए बोला, "कुछ भी कहो, मासटर फार्मूला तुम्हारा ही काम आया था."

मुल्ला अपनी औकात पर आ गया था, जरूर मुझ से कुछ वसूलना था या कोई काम करवाना था. बुद्धिजीवी इसी तरह ठगे जाते हैं और वे भी इसी तरह ठगा करते हैं..अचानक सद्व्यवहार कि बौछार करके, सहमती का माहौल बना के.

और मैं भोला बुद्धिजीवी बहुत खुश हो गया था,

मुल्ला मेरी बोन चाइना की टी सेट की ऐसी-तैसी कर रहा था.....चाय कप से सौसर में डाल कर सुड़क रहा था, नाश्ता उड़ा रहा था. मैं बुद्धिजीवी नगण्य सा बना चुप चाप सुरक्षा-असुरक्षा, संबंधों, मैत्री, गिरते नैतिक मूल्यों इत्यादि पर सोच रहा था. मन के किसी कोने से आवाज़ आ रही थी मुल्ला आज कुछ मांगने वाला है. [:)]

अभिप्राय जीवन का...............

इन्द्रियानुभूति के परे
नहीं कर पा रहे हम
अनुभव जीवन को
अधूरा है हमारा
स्पर्श करना.....

असीम गगन हो
बहती पवन हो
विस्तृत सागर हो
बहती नदिया हो
ऊँचा पर्वत हो
बसंत की बहार हो
पतझड़ की वीरानगी हो
विशाल महल हो
नन्हा कण धूल का हो
मुस्कुराना महकना फूल का हो
यह हो...वह हो....
दृष्टि पाती है देख
मात्र एक अंश,
प्रमुदित होतें हैं हम
उसीका सारांश
जो होता है स्वयम

देख रहे हैं हम
जीवन को
कुंजी-छिद्र से,
जान सकतें है कैसे हम
समग्रता उसकी
कुछ दिखता है
कुछ रह जाता है

इसी क्रम में
सुनतें हैं
सोचते हैं
पूछते हैं
क्या अभिप्राय है जीवन का ?

जब होते हैं
प्रसन्न हम
नहीं होता सम्मुख
प्रश्न यह,
होते हैं जब खिन्न
आन खडा होता है
प्रश्न यह,
जीवन जैसा ही
कितना सापेक्ष है
प्रश्न यह................?

जातें हैं जब
कार्यस्थल पर
लक्ष्य होता है
हमारे अर्जन का
परिभाषित सा..........
किन्तु जब भी होतें हैं हम
शरीक किसी जलसे में
होता नहीं कोई भी
उद्देश्य या परिमाप
हमारे आनन्द का
बस सहज में
लेते हैं हम आनन्द
उत्सव के हर निमिष का......

जीवन भी
कुछ यही है,
निरुदेश्य सा,
लेते रहना
आनन्द प्रत्येक क्षण का
चैतन्यता के साथ
बस 'टाइम पास' सा
सहज स्वाभाविक
नैसर्गिक सा ...............

करना परिभाषित
जीवन अभिप्राय को
होगा केवल
बुद्धि विलास,
नहीं होगा जीना
होगा बस साँसे गिनना
गिनते रहना
करते हुए प्रतीक्षा
उनके रूक जाने की.........

शूल से
निकाला जाता है
गणित में भी
किसी सवाल के हल तक
पहुँचने हेतु
माना जाता है कुछ.......
कह लेते हैं एक बार
अभिप्राय जीवन का है :
जानना जीवन के परिमाण को,
जानना उसकी
चौडाई और
ऊँचाई को,
जानना उसकी पूर्ण गहराई को
जान सके हम कि
नहीं चाहिए जीवन को
कोई अभिप्राय
कोई उद्देश्य...........
और छोड़ दें
हम इस प्रश्न को
होकर परे
प्रत्येक परिभाषा से ,
जीयें सजग हो
हर पल
हर क्षण..........

Tuesday, September 8, 2009


कभी न करता
अन्न का
जल का
उसके लिए
न फौज है
न पुलिस
न ही कचहरी
न ही वकील और जज
न डॉक्टर
न दवाएं
न पंडित
न मौलवी
न जनम-विवाह-मरण के
बस जीता है वह शान से
हर क्षण के अनुसार

मगर इन्सान
लगा है
परिग्रह की होड़ में
ग्रसित हो असुरक्षा से
बातें करता है दंभ भरी
कुदरत को काबू करने की
चाँद को छूने की
जीव की रचना कर पाने की
फ़िर भी ठोंकता है सर वक्त बेवक्त
रचता है स्वांग तरह तरह के
हर रात और हर दिन
जीने का करता ही दिखावा
मरता है क्षण क्षण
बस यही है
उसका अधूरापन.....

आत्म कथ्य एक साधक का ...........

(हाल ही में एक साधक से भेंट हुई , उसने जो कुछ कहा मुझे, उसे कलम बद्ध करने का एक प्रयास)

शस्त्र मैंने उठाये नहीं
ना किया लक्ष्मी से हेत
वीणा वादिनी वंदन किया
तिलक लगाई रेत.

मिलती है रोटी मुझे
नहीं मख्खन की चाह
भूखा कभी सोया नहीं
दिखाई प्रभु ने राह.

इसी आत्मविश्वास ने
बदला रूप था मेरा
तब से आज तलक मैंने
कभी ना मुंह था फेरा .

आई थी ठगने को माया
धर धर रूप अनेक
प्रभु ने रखा स्थिर मुझको
डिगाया ना क्षण भी एक.

मेरी साधना है शब्द की
अशब्द है मेरा इष्ट
रूप रंग रस गंध की
नहीं तृष्णा अब अवशिष्ट.

जीना साक्षी भाव से
क्षण क्षण में आनन्द
भावों को कर अग्रणी
चलते मेरे छन्द.

देह-अदेह पुन्न-पाप का
कर कर भेद प्रपंच
अपूर्ण ज्ञान गुरु देते रहे
हो आरूढ़ धर्म के मंच.

पाया जब से शून्य को
हुई शोध संपूर्ण
हृदय आनन्द पूरित हुआ
काज हुए परिपूर्ण.

स्वीकार समग्र को जब किया
रहे ना भेद विभेद
लहरों के संग जो बहे
उसको कैसी कैद.

लक्ष्य बांध मैंने किया
खुद को लक्ष्य हीन
सांसे स्वयम चलती रहे
सहज स्वभाव प्रवीण.

बुझेगी धूणी देह की
होता यूँ प्रतीत
पर आभामंडल में सदा
रहे गुंजरित मेरे गीत.

Sunday, September 6, 2009

रामायण का सार/ Ramayan Ka Saar..........

मत भागो
होकर विवेकशून्य
स्वर्ण मृग के पीछे,
लाँघ जायेगी सीता
लक्ष्मण रेखा,
कर लेगा रावण
अपहरण उसका..........

मित्रों !
बस यही है
रामायण का सार,
शेष समस्त है
भाषा का विस्तार,
मूर्धन्य कवि की
कलम का चमत्कार.......

Mat Bhago
Hokar vivekshunya
Swaranmarg ke peechhe
Langh jayegi Sita
Lakhsman Rekha,
Kar lega Ravan
Apharan uska..........

Mitron !
Bas yahi hai
Ramayan ka saar,
Shesh samast hai
Bhasha ka vistar,
Murdhanya kavi ki
Kalam ka chamatkar.....

Saturday, September 5, 2009

दीपक बाती और काजल.............

कथन बाती का :

दीपक !
पराई चिंता में
क्यों जला रहा है
ह्रदय अपना ?
जलते जलते
जल जाता है यूँ
तेरा हर सपना.

वचन दीपक का :

तिमिर के अस्तित्व से
ना हो ग्रसित
निछत्र धरती,
ऐ बाती !
सार्थक है यह
जलना मेरा,
सिद्धि उपहार
इस तप से पा
बन काजल
ज्योत नयन में
जगा सकूँ
ऐसा परम
कर्मफल मेरा.................

रास्ता : बाहर जंगल से निकलने का..........

रे शास्त्री !
रे हाफिज़ !
रे भिख्खु !
रे श्रमण !
रे पुरोहित !
रे आचार्य !
रे शिक्षक !
रे गुरु !
रट ली है तुमने
सब किताबें
जान लिया हर पैंतरा
मज़हबी दंगल का,
एहसास है मुझे
पहचानता तू
चप्पा चप्पा
इस जंगल का...................

मालूम है तुझे
रास्ता शेर की मांद तक का,
आसां है पहुंचना तेरा
अजगर की खोह तक का,
जानता है तू यह भी
किस झील का है
मीठा पानी
फलों से लदे
छायादार पेडों की
जगहा भी नहीं
तुझ से अनजानी...........

इल्म अपना
जोश-ओ-खरोश से
दौड़ दौड़ कर
दिखा रहा तू,
बन रहे हैं निशाँ
तेरे कदमों के
जहाँ जहाँ
जा रहा तू ............

हे इल्म के ठेकेदार !
अनजाने में नए मुसाफिर
भटक जाते हैं
रख कर पाँव
उन्ही निशानों पर
जब जब तू करता
हवा उनके सुलगते
अरमानों पर ...........

तुझे तो पड़ी है
बस अपने जै-जै कार की
भोग चंदे खैरात ओ जकात की
अपने पीछे लगी
मूर्खों की जमात की,
सुन कर भी
कर रहा अनसुनी तुम
उनकी बेताब रूह की कराहों को
अँधेरे से गूंजती
---रोशनी ! रोशनी ! की सदाओं को..........

अब भी चेत जा
ऐ परम ज्ञानी !
चल चल कर
बना दे गम्य
मात्र उस मार्ग को
जो ले जा सके
पथिक को बाहर
इस सघन
अरण्य से,
भूल कर मतिभ्रम
विभेद के
नगण्य से...........

थक गया हूँ मैं
ना रहा हौंसला
मुझ पर
अब चलने का,
बता दे !
बस बता दे !
जंगल से
निकलने का..........

Thursday, September 3, 2009

सीप सागर और मोती...

(एक मनीषी के संग सत्संग में कुछ मोती मिले थे, शेयर कर रहा हूँ शब्द देकर.)

# # #
सागर का कथन :

सीप !
तू पगली है
अपने गर्भ में
पाल कर मोती,
बुलाती क्यूँ है
खुद की
मौत को....?

सीप के वचन :

जीना मरना तो
क्रम है
जीवन का,
परख ही है जो
रहती जिंदा,
बनता है
बंधता है
गले में जब
हृदय को बिंधा...

रे सागर !
क्यूँ अकुला रहा है यूँ ?
प्राण देकर भी
उजालती हूँ
मेरा और तेरा,
क्यूँ नहीं
समझता तूँ ....?

धरती, चन्दन और सुवास ......

धरती का कथन :

हे चन्दन !
बसा के रख
सुवास को तू
निज प्राण में
लाल मेरे !
क्यों स्वदेह को
घिसवा रहा
पत्थर निष्प्राण पे.......?

चन्दन के वचन :

क्यों हो रही है
व्यथित तूँ
ऐ मां !
घर्षण और क्षरण
चरम सीमा पर्यंत,
क्षय नहीं
यह तो है
हर्षोल्लास अनन्त...........

नहीं मिटा सकते
मेरे गुण धर्म
तनिक समझो ना
प्रक्रिया का मर्म
अजर अमर है आत्मा
सत्य देह का है
बस भ्रम
मिलन करने अस्तित्व से
हो रहा है
सहज परिश्रम.......

घिसा कर
कंचन काया को
होना है विराजित मुझे
प्रभु ललाट पर,
करूँगा प्रसारित
यश-सौरभ तुम्हारी
हे जननी !
भू के हर कपाट पर..........

Tuesday, September 1, 2009

उठ मंजिल मनुहार करै ..............(प्रभाती)

भोर भयो भाग्यो अंधियारों
पंछी जय जय कार करै,
रात बसेरो लियो बटोही
उठ मंजिल मनुहार करै ..............

झगड़ मथैनी दही बिलोवे
बालक धूम मचावै है,
धुओं बादल चूल्हों उठावे
दूध उफनतो जावे है,

कण कण प्राण जगे धरती पर
हर्ष उल्लास चहकार करै,
भोर भयो भाग्यो अंधियारों
पंछी जय जय कार करै...............

सोकर सपना देख रह्यो तूँ
घड़ी शुभ बीती जावै है
दश दिशी गूंज रही शहनाई
क्यों तू समय गवाएं है,

नज़र एक पाने को तेरी
कुदरत खूब सिंगार करै,
रात बसेरो लियो बटोही
उठ मंजिल मनुहार करै ............

दिल कोमल है फूल सो तेरो
निश्चय दृढ पत्थर सो है
प्रेम तेरो है सेज पुसब की
तेज़ तेरो ससतर सो है ,

करे आरती जलध तुम्हारी
गगन झुकै सतकार करै,
रात बसेरो लियो बटोही
उठ मंजिल मनुहार करै ...............

पथ दुरगम की चिंता क्यूँ है
साँचो साथ स्वयम को है
आतमा अजर अमर है तेरी
झूठो डर क्यूँ जम को है,

चार दिनों की है जिंदगानी
क्यूँ तूँ कपट ब्योहार करै,
रात बसेरो लियो बटोही
उठ मंजिल मनुहार करै ............

Sunday, August 30, 2009

अपवाद पुरुष.........

दीवानी ने मेरी चुटकी ली थी उस दिन, कहने लगी थी आज एक बहुत ही धमाकेदार नज़्म लिखी है, जो कुछ नहीं बस हकीक़त है......

आप में से अधिकांश ने मोहब्बत की है मुखरित या मौन,'ऐसी' भी 'वैसी' भी। सो आप बखूबी जानते हैं कि ऐसे बेगुनाह संवाद आपस में होते ही हैं...बार बार मोहब्बत का इज़हार पाने के लिए......

बात दीवानी की............

रेत पर पड़ी मछलियों की तरह
छटपटाते रहतें हैं
अपनी औरतों के भीतर
उतर जाने के लिए.......

जब होती हैं वे फ़ोन पर
किसी और से वार्तारत
रोक कर सांस रहते हैं
उनके संवादों को
सुनने की कोशिश में........

जब सोती हैं वे
घुस कर उनकी नींद में
देखते हैं उन्हें ख्वाब देखते हुए
डालते हैं विघ्न
जब कि स्वप्न में ही तो
रहता है इंसान पूरा आजाद.......

औरतें जब बावर्चीखाने में
मसरूफ होती हैं पकाने में
चुपके से जा बैठते हैं मर्द
उनकी रोज़मर्रा की
डायरियों में
और पढ़ते हैं उनकी
दिन भर की अंतरंगता को..........

उनके नाम आने वाले
खतों पर रखते हैं नज़र
जैसे जवान होती लड़की पर
रखतें हैं पड़ोसी...........

जब कभी वे जागती हैं
देर रात की फिल्मों की तरह
आधी रात तक
मर्द करवट बदलने के बहाने
आधी आँख से देखते हैं
उनकी सारी हरक़तों को.........

जब औरतें पढ़ती है
कोई ख़त
तब पढ़तें है मर्द
उनकी आँखों को बाक़ायदा
गलती से भी कभी अगर
निकल जाती है कोई ऐसी बात
उनके मुंह से जो
नहीं निकलनी चाहिए तब
खुल जाती है मर्दों की
तीसरी आँख
पलक झपकते ही...............

कुल मिलाकर
मर्दों के तीन चौथाई बसंत
कुम्हला जाते हैं
अपनी औरतों के पहरुआ बनने में
और एक चौथाई पतझड़ झड़ जाते हैं
गैर औरतों का तिलिस्म जानने में.............

फिर भी ना जाने क्यों
है मुझे यकीन कि
मर्दों की दुनिया में
कहीं ना कहीं
कभी ना कभी
मिलेगा जरूर कोई एक
'अपवाद पुरुष'..........................

बात विनेश की.......

मैंने उसके पहली रात मुल्ला के साथ पाकिस्तान के आये कवाल्लों के एक बहुत ही शानदार प्रोग्राम में लुत्फ़ लिया था अपने आज़ादी का....हुस्न और इश्क के सवाल जवाब ताज़ा ताज़ा जेहन में थे....मैंने लंच टाइम तक अपनी यह खूसूरत नज़्म उसके हाथ में थमा दी थी........

पानी में होकर भी
रहती है मीन सी प्यासी.........

जब भी गलती से
कर बैठता है किसी
अन्य नारी के रूप और गुणों का
सही आकलन
लगता है औरत को
जुड़ गए है तार 'उसके'
'उससे' कहीं,
बिना देखे आइना
समझ लेती है
खुद को बदसूरत
बिना जाने समझे
मान लेती है खुद को गुणहीन............

जब किसी प्रेम कविता को पढ़कर
मुस्कुरा देता हैं मंद मंद
कनखियों से देख
औरत समझ लेती हैं
बन्दा गया काम से
तसव्वुर में ले आती है
हर उस कवियत्री को
जिसने गलती से कभी
अपने किसी महबूब के लिए
लिख डाली थी वो कविता
बस 'तेरे महबूब' की
ले लेता है जगह
'मेरा प्रियत्तम'
जलन की आग जला देती है
जेहन और तन-बदन.........

दफ्तर के किसी काम से
बैठता है मर्द
किसी क्लब या रेस्टुरेंट की
मेज़ पर किसी मोहतरमा के साथ
और दे देता है
यह खबर मेमसाब को
कोई नाकुछ बन्दा
घी मिर्च लगा कर,
उस कलयुगी हरिश्चंद्र की हर बात
लगने लगती है सांच
मर्द के सही एक्स्प्लानेशन भी
लगतें है महज़ शब्द जाल
सच्चा मर्द भी बन जाता है
उस दिन झूठों का सरताज
उस लम्हे से नहीं
अनन्त काल से..........

किसी पब्लिक गेदरिंग में
हिल स्टेशन
तीर्थ स्थान
रेलवे स्टेशन या
एअरपोर्ट पर
मिल जाती है कोई
पुरानी सहपाठिन
बहुत अन्तराल पर मिलने की
ख़ुशी झलक जाती है
बेचारे मर्द के चेहरे पर
याद कर लेती है
ज़िन्दगी की हमसफ़र
कोई बम्बईया फिल्म
मिल्स एंड बून या
गुलशन नन्दा का
हर उपन्यास...........

मदद कर देता है
किसी आफतज़दा खातून की
महज़ हौसला अफजाई के अल्फाज़ या
माकूल मशविरों से
लगता है
जीवन साथी को
छूट गया है साथ बीच राह में
गाने को हो जाता है मजबूर
मर्द बेचारा
चल अकेला चल अकेला ................

शराफत के नाते
कर लेता है मर्द किसी
पुरुष या महिला मित्र से बातें
थोड़ी से ज्यादा
या लगा लेता है कहकहे
किसी और के लतीफों पर
हो जाता है शिकवा :
लिल्लाह ! ऐसा कभी हम से तो नहीं बतियाते
हो जाता है मुंह गुब्बारा सा
बीत जाती है सदियाँ
हवा की निकासी में.........

रिश्तों का यह थोथापन
देखते देखते
घबरा सा गया हूँ मैं
क्यों बनूँ अज़नबी
अपने ही घर में
चार दीवारों से बाहर भी
एक घर है
जिसकी कोई छत नहीं
कायम है जो
खुले आसमान के नीचे
नहीं बनना मुझे
किसी का भी
'अपवाद पुरुष'.............

Saturday, August 29, 2009

कसौटी आज की........

(Vishay aur prashan naye nahin hai.....maine swayam ne bhi apni rachnaon men aise patron par bahut kuchh kaha hai unko prateek ke roop men prayog karte hue, magar yah pahloo bhi yatharath hai.....aek vimarsh men yeh bindu kisi manishi ne vyakt kiye the...mere dil aur dimag ko chhu gaye...aaj kisi bat chit ke darmiyan sandarbh aaya, aap se share kar raha hun......)

क्या मिलना है
कुरेदने से
विगत के
कूड़े को........?
कहाँ मिलेगा
शम्बूक का सर
अंगूठा एकलव्य का ?
राम और द्रोण
कहलायें हैं
अपने अपने
युगों के
परिपेक्ष्य में,
क्या होगा
कसने से उन्हें
आज की कसौटी पर ?
झुठला देगा
आने वाला समय
आज के
आकलन को भी ,
कभी ना निपटेगा
कुंठाओं का
अंतहीन विवाद........